Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: राजनाथ सिंह की वायुसैनिकों को बधाई, कहा- वायुसेना पर हमें गर्व

वायुसेना के अधिकारियों के साथ रक्षा मंत्री

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने देश को लड़ाकू तौर पर सक्षम वायुसेना प्रदान करने पर वायुसैनिकों को बधाई दी है औऱ कहा है कि भारतीय वायुसेना पर उऩ्हें गर्व है। यहां वायुसेना के छमाही सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा कि वक्त वक्त पर वायुसेना ने अपने को साबित किया है। इसने विदेशी सेनाओं का सम्मान जीता है जो भारतीय वायुसैनिकों के साथ साझा अभ्यास करने को उत्सुक हैं। उन्होंने कहा कि स्वदेशी उत्पादन से हम अपनी रक्षा क्षमता को  और मजबूत कर रहे हैं। हमें स्वदेशी डिजाइन और विकास के नये अवसर तलाशने होंगे। इस बारे में भारतीय वायुसेना के प्रयासों की उन्होंने सराहना की।





कमांडरों से रक्षा मंत्री ने कहा कि  दुश्मन के किसी भी दुस्साहस को रोकने के लिये हमें अपनी समाघात क्षमता को बेहतर करना होगा। उन्होंने वायुसेना के कमांडरों से आग्रह किया कि   अपने नये लडाकू संसाधनों  की बेहतर देखरेख और मेनटेनेंस करें ताकि हम हमेशा दुश्मन से मुकाबले के लिये तैयार रहें। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना को  थलसेना औऱ नौसेना के साथ भी साझा अभ्यास करने की जरुरत है ताकि भविष्य के युद्ध में तालमेल से  चुनौतियों का  मुकाबला कर सकें। 25 और 26 नवम्बर को हो रहे कमांडर सम्मेलन के उद्घाटन के मौके पर वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आर के एस भदौरिया  रक्षा राज्य मंत्री एस वाई नायक, रक्षा सचिव अजय कुमार, रक्षा उत्पादन सचिव सुभाष चंद्र  और अन्य आला अधिकारी मौजूद थे। इस मौके पर वायुसेना प्रमुख ने वायुसेना के मौजूदा हाल की जानकारी दी।

दो दिनों तक चलने वाले इस सम्मेलन में  संयुक्त कार्रवाई, ड्रोन विरोधी आपरेशन,  असंतुलित युद्ध का  मुकाबला, स्वदेशीकरण से जुड़े मसले, शस्त्र प्रणालियों को हासिल करने की प्रक्रिया को सुचारू बनाना औऱ मानव संसाधन नीति को संतुलित बनाना आदि मसलों पर चर्चा होगी।

Comments

Most Popular

To Top