Air Force

Special Report: सरहद पर दोस्ताना हमले में गिरा था भारतीय हेलिकॉप्टर

एमआई- 17 हेलिकॉप्टर
फोटो सौजन्य- गूगल

नई दिल्ली। गत 27 फरवरी को  जम्मू-कश्मीर के बडगाम इलाके में भारतीय वायुसेना का एमआई- 17 हेलिकॉप्टर वास्तव में अपनी ही वायुसेना की जमीनी मिसाइल से मार गिराया गया था। यहां मिली रिपोर्टों के मुताबिक वायुसेना की अंदरूनी जांच से यह उजागर हुआ है कि पाकिस्तानी वायुसेना के हमलावर विमानों ने जब अचानक भारतीय इलाके में हवाई हमला किया था तब उसी दौरान उड़ान भरने वाले भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टर को भारतीय हवाई सुरक्षा टुकड़ी ने गलती से पाकिस्तानी वायुसेना का समझ लिया और उसे मार गिराने का आदेश दिया। इस हेलिकॉप्टर पर 06 वायुसैनिक सवार थे।





 गौरतलब है कि गत 26 फरवरी को जब भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट इलाके पर भारतीय मिराज- 2000 विमानों ने जब हवाई  सर्जिकल हमला किया तो इसके अगले दिन बदला लेने के लिये पाकिस्तानी वायुसेना ने भी अपने हमलावर लड़ाकू विमानों को भारतीय जम्मू-कश्मीर इलाके में भेजा जिसमें पाकिस्तानी वायुसेना का एक एफ- 16 लड़ाकू विमान मार गिराया गया था।  इस हमले में भारतीय वायुसेना का एक मिग-21 विमान भी मार गिराया गया था औऱ इसके पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को पाकिस्तान ने अपनी हिरासत में ले लिया था।

जांच से पता चला है कि एमआई-17 हेलिकॉप्टर की दुश्मन औऱ दोस्त पहचानने वाली प्रणाली (आईएफएफ) उस वक्त काम नहीं कर रही थी जिससे अपनी मिसाइल यूनिट ने उसे दुश्मन का हेलिकॉप्टर समझ कर उस पर जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल चला दी।

गिराया गया हेलिकॉप्टर एमआई-17-वी  वायुसेना की श्रीनगर स्थित 154 हेलिकॉप्टर यूनिट का था। यह हेलिकॉप्टर उड़ान भरने के 10 मिनट के अंदर ही मार गिराया गया। हालांकि बडगाम से सौ किलोमीटर दूर भारतीय औऱ पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों के बीच आसमानी लड़ाई चल रही थी।

सूत्रों का कहना है कि भारतीय हेलिकॉप्टर पर हमला यह समझ कर किया गया कि वह दुश्मन का पायलट रहित ड्रोन विमान हो सकता है। वायुसेना के अधिकारियों का कहना है कि इस गलती के लिये जो दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस हेलिकॉप्टर को गिराने के लिये इजराइली स्पाइडर एयर डिफिंस सिस्टम का इस्तेमाल किया गया था।  इस हमले में वायुसैनिक अड्डे के टर्मिनल वेपंस डायरेक्टर (TWD) की भूमिका पर सवाल उठाया गया है।

Comments

Most Popular

To Top