Air Force

खास रिपोर्ट: गरुड़ अभ्यास कर लौटे भारतीय वायुसैनिक

गरुड़ अभ्यास
फाइल फोटो

नई दिल्ली। फ्रांस  के वायुसैनिक अड्डे पर साझा वायुसैनिक अभ्यास गरुड़ में भाग ले कर भारतीय वायुसैनिक स्वदेश लौट आए हैं। यहां भारतीय वायुसेना के प्रवक्ता ने यह जानकारी देते हुए बताया कि एक्र्सर्साइज गरुड़ में भाग लेने भारतीय वायुसैनिक फ्रांस के मोंते दा मारसान वायुसैनिक अड्डे पर गए थे।





यह अभ्यास दो से 12 जुलाई तक चला। इस साल आयोजित होने वाला गरुड़-19 अब तक का सबसे बड़ा वायुसैनिक प्रशिक्षण अभ्यास था। भारतीय वायुसेना की टीम में 134 वायुसैनिक शामिल थे। अभ्यास में भारत की ओर से चार सुखोई-30 एमकेआई ल़ड़ाकू विमान, एक आईएल-78 रिफ्युलर विमान और दो सी-17 ग्लोबमास्टर परिवहन विमानों को शामिल किया गया था। अभ्यास में भाग लेने के लिये भारतीय दल 25 जून को फ्रांस रवाना हुआ था। इसका इरादा भारतीय वायुसैनिकों को अंतरराष्ट्रीय माहौल में समाघात अनुभव हासिल  करना था।   इसका इरादा भारत और फ्रांस के बीच आपसी रिश्ते गहरे करना और आपसी तालमेल को बेहतर करना था। गरुड़ वायुसैनिक अभ्यास को दो चरणों  में आयोजित किया गया था।

 दोनों वायुसेनाओं ने इस दौरान लार्ज फोर्स इनगेजमेंट का अभ्यास वास्तविक समाघात माहौल में  किया। दोनों वायुसेनाओं ने दिन और रात में भी अभ्यास किये। इस अभ्यास के दौरान भारतीय विमानों और संसाधनों का शतप्रतिशत संचालन की अवस्था में  रखा गया।  इस अभ्यास के दौरान वायुसेना के वाइस चीफ एयर  मार्शल आर के एस भदौरिया ने फ्रांस का दौरा किया।

मित्र देशों के साथ इस तरह के साझा अभ्यासों की विशेष अहमियत हो गई है। पिछले दशक के दौरान भारतीय वायुसेना ने अंतरराष्ट्रीय माहौल में कई  मित्र देशों के साथ साझा अभ्यास किये हैं। इन अभ्यासों से नई रणनीति और अपनी समाघात क्षमता बेहतर करने का मौका मिलता है।

Comments

Most Popular

To Top