Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: भारतीय वायुसेना का मिग-27 अगले महीने होंगे रिटायर

MIG-27
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना के मिग-27 लड़ाकू विमानों का बेड़ा अगले महीने रिटायर कर दिया जाएगा। इन विमानों को अस्सी के दशक के मध्य में भारतीय वायुसेना के बेड़े में तत्कालीन सोवियत संघ से हासिल किया गया था।





दिसम्बर महीने में मिग-27 विमान की अंतिम उड़ान जोधपुर स्थित वायुसैनिक अड्डे से  होगी। सोवियत संघ की वायुसेना में इन विमानों को पहली बार 1975 में शामिल किया गया था।  बाद में सोवियत संघ ने इन विमानों के स्वेदशी उत्पादन के लिये सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम हिंदुस्तान एरोनाटिक्स लि़. ने एक साल बाद इनके उत्पादन की सुविधा सोवियत संघ से हासिल की।  HAL इन विमानों का साल 1996 तक उत्पादन करता रहा।  भारतीय वायुसेना के बेड़े में करीब साढ़े तीन दशक तक सेवा देने वाले इन विमानों को रिटायर करने के बाद मिग-27 विमान केवल कजाकिस्तान की वायुसेना  में बचा रहेगा।

गौरतलब है कि इस साल भारतीय वायुसेना ने अपने दो मिग-27 विमान दुर्घटना में खोए हैं।  पहला विमान पोखरण के निकट फरवरी में और दूसरा विमान  मार्च में जोधपुर के निकट दुर्घटनाग्रस्त हुआ था।  भारतीय वायुसेना के बेड़े में करीब 165 मिग-27 हमलावर विमान शामिल हुए थे। इनमें से 86 का हिंदुस्तान एऱोनाटिक्स ने आधुनिक रूप दे कर अपग्रेड किया था।  मिग-27 विमान जमीन पर हमला करने वाला विमान है।

Comments

Most Popular

To Top