Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: चौकस जांबाज पायलट ने खुद और लोगों की ऐसे बचाई जान

जगुआर विमान
फाइल फोटो

नई दिल्ली। उड़ान भरते ही जगुआर लड़ाकू विमान को पक्षियों के झुंड से मुकाबला करना पड़ा  लेकिन पायलट ने  न केवल अपनी जिंदगी बचाई बल्कि अपनी सतर्कता दिखाते हुए सैंकड़ो करोड़ रुपये की लागत वाले लड़ाकू विमान को भी बचा लिया।





भारतीय वायुसेना के जांबाज लड़ाकू पायलट के इस चौकन्नेपन और  साहसी कारनामे की वायुसैनिक हलकों में व्यापक सराहना हो रही है। यह वाकया गत 27 जून की है जब  अम्बाला वायुसैनिक अड्डे से वायुसेना के गहन भेदी लड़ाकू विमान जगुआर ने जैसे ही सुबह  उड़ान भरी उन्हें उसी क्षण पक्षियों का झुंड दिखा जिनमें से एक जगुआर विमान के इंजन से टकरा गया। यह विमान ट्रेनिंग उड़ान भर रहा था। पायलट को जैसे ही अहसास हुआ कि विमान का इंजन पक्षी के टकराने से क्षतिग्रस्त हो गया है पायलट ने विमान पर लादे गए दो अतिरिक्त ईंधन टैंक को  विमान से अलग  किया और जमीन पर गिरने दिया। इसके अलावा पायलट ने दो  ट्रेनिंग के समय इस्तेमाल किए जाने वाले  बम को भी जमीन पर  फेंक दिया। इसके बाद पायलट विमान को  सुरक्षित  वायुसैनिक अड्डे पर उतार दिया। ये दोनों ईंधन टैंक जलते हुए जमीन पर गिरे। लेकिन विमान सुरक्षित हवाई पट्टी पर उतरने में कामयाब रहा।

इस पेशेवर कौशल से न केवल पायलट ने खुद की जान बचाई बल्कि हवाई अड्डे के आसपास  के इलाके में जमीन पर भारी संख्या में लोगों को हताहत होने से बचा लिया। इस तरह पायलट ने वायुसेना के एक महत्वपूर्ण युद्ध संसाधन को भी बर्बाद होने से बचा लिया।

Comments

Most Popular

To Top