Air Force

Special Report: एरो इंडिया में अमेरिका की सबसे बड़ी भागीदारी

Aero India Show
फाइल फोटो

नई दिल्ली। बैंगलुरु में 20 से 24 फरवरी तक आयोजित हो रही अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष वैमानिकी प्रदर्शनी एऱो इंडिया- 2019 में अमेरिका की सबसे बड़ी भागीदारी होगी।





इस प्रदर्शनी में एक उच्च स्तरीय अमेरिकी शिष्टमंडल  भाग लेगा जिसकी अगुवाई अमेरिकी राजदूत केनेथ आई जस्टर करेंगे। इस बारे में राजदूत जस्टर ने कहा कि एरो इंडिया- 2019 रक्षा प्रदर्शनी में सबसे बड़े शिष्टमंडल की अगुवाई कर उन्हें खुशी हो रही है। शिष्टमंडल में अमेरिकी रक्ष अवर सचिव एलन शैफर, डिफेंस सिक्युरिटी कोऑपरेशन एजेंसी के निदेशक लेफिट्नेंट जनरल चार्ल्स हूपर. सहायक रक्षा सचिव डा. जोसेफ फैल्टर, भारत के लिये सीनियर डिफेंस अताशे मेजर जनरल रॉबिन फोंट्स आदि आला अधिकारी हैं।

इस प्रदर्शनी में अमेरिका की अग्रणी हथियार कम्पनियों के नवीनतम हथियार और शस्त्र प्रणालियों को दर्शाया जाएगा। उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच विशेष सामरिक साझेदारी और भारत को दिये गए मेजर डिफेंस पार्टनर के दर्जा के अनुरुप  अमेरिका भारत के साथ रक्षा साझेदारी को औऱ गहरा करने को प्रतिबद्ध है। एरो इंडिया में अमेरिका की  28 अग्रणी रक्षा कम्पनियां भाग ले रही हैं।

एऱो इंडिया में अमेरिकी विदेश विभाग और वाणिज्य विभाग के आला अधिकारियों के अलावे अमेरिकी रक्षा मुख्यालय पेंटागन के सौ से अधिक अधिकारी एऱो इंडिया के दौरान  मौजूद रहेंगे।

गौरतलब है कि भारत और अमेरिका के बीच गत एक दशक के भीतर करीब  20 अरब डॉलर के रक्षा सौदे सम्पन्न हो चुके हैं। अमेरिकी कम्पनियों के साथ और भी नये सौदों पर गहन बातचीत चल रही है। अमेरिका भारत के रक्षा बाजार से काफी उत्साहित है।

अमेरिका की ताजा रुचि भारतीय वायुसेना के लिये 110 लड़ाकू विमानों का सौदा हासिल करने में है। इसके लिये अमेरिकी बोईंग कम्पनी के एफ- 18 और लाकहीड मार्टिन के एफ- 16 विमान होड़ में शामिल हैं।

20 फरवरी को रक्षा प्रदर्शनी के  उद्घाटन के दौरान अमेरिका के बी- 52 स्ट्रैटोफोर्टरेस बमवर्षक विमान उड़ान प्रदर्शन करेंगे। ये विमान अमेरिकी वायुसैनिक अड्डे गुआम पर तैनात 23वें एक्सपेडीशनरी बम स्क्वाड्रन मे शामिल हैं।

Comments

Most Popular

To Top