Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: अपना हेलिकॉप्टर गिराने वालों के खिलाफ होगी कार्रवाई, 7 की हुई थी मौत

MI-8 हेलिकॉप्टर
सौजन्य- गूगल

नई दिल्ली। गत 26 फरवरी को बालाकोट पर भारतीय वायुसेना की  सर्जिकल स्ट्राइक के दो दिनों बाद पाक के जवाबी हमले के दौरान भारतीय वायुसेना का एक एमआई- 8 हेलिकॉप्टर अपनी ही वायुसेना  के हमले में  गिराया गया था  उसके लिये दोषी वायुसैनिकों को दंडित किया जाएगा। इस दोस्ताना हमले की वजह से एमआई-8 हेलिकॉप्टर पर सवार 07 लोग मारे गए थे।





भारतीय वायुसेना के चीफ ऑफ स्टाफ का पदभार ग्रहण करने के बाद वायुसेना दिवस के मौके पर अपने पहले संवाददाता सम्मेलन में एय़र चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा कि इस घटना की अदालती जांच गठित की गई थी जिसकी रिपोर्ट मिल गई है। इसके आधार पर वायुसेना के दो अफसरों की पहचान की गई है जिनके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। वायुसेना ने पहली बार यह स्वीकार  किया है कि पाकिस्तानी वायुसेना के जवाबी हमले के दौरान भारतीय वायुसेना का हेलिकॉप्टर अपने ही वायुसैनिकों द्वारा मार गिराया गया था। गौरतलब है कि पाकिस्तानी वायुसेना एफ-16 और अन्य विमानों का जत्था भारतीय इलाके में हमले के लिये भेजा था जिसकी जवाबी कार्रवाई में विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने पाकिस्तानी वायुसेना का एक एफ-16 विमान मार गिराया था।

 गौरतलब है कि पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्रवारा किये गए आत्मघाती हमले के बाद  भारतीय वायुसेना ने यह जवाबी कार्रवाई की थी। पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। सवालों के जवाब मे  उन्होंने कहा कि पाकिस्तान यदि इस तरह की गलती फिर करेगा तब उसके खिलाफ बालाकोट जैसी कार्रवाई फिर की जाएगी। उन्होंने कहाकि भारतीय वायुसेना किसी भी आपात कार्रवाई के लिये तैयार है।

वायुसेना प्रमुख ने सवालों के जवाब में कहा कि भारतीय वायुसेना के लिये 5वीं पीढ़ी के जिस विमान के आयात की योजना थी वह अब स्थगित कर दी गई है और इसके बदले देश में ही एडवांस्ड  मीडियम कम्बैट एयरक्राफ्ट (एमका) को हासिल किया जाएगा।

गौरतलब है कि  भारतीय रक्षा शोध संगठन की इकाई वैमानिकी विकास एजेसी (एडीए) द्वारा एमका विमान पर गत एक दशक से डिजाइन व विकास किया जा रहा है। एडीए के मुताबिक इसका पहला प्रोटोटाइप- 2025 तक ही आ सकेगा। हालांकि वायुसैनिक अधिकारियों को खुद भरोसा नहीं है कि एमका विमान को वायुसेना के बेड़े में शामिल करने में कितने साल लग सकते हैं लेकिन वायुसेना ने अपना  आधुनिकीकरण  कार्यक्रम इसी विमान पर आधारित कर लिया लगता है।

वायुसेना प्रमुख ने कहा कि इसके अलावा विदेशी सहयोग से देश में ही 110 लड़ाकू विमान बनाने की प्रक्रिया शुरु हो गई है। इसके साथ ही  आठ सुखोई- 30 एमकेआई विमान और आयात किये जाएंगे।  21 मिग-29 विमानों को भी  आयात किया जाएगा। सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि फ्रांस से 36 औऱ राफेल लड़ाकू विमान के आयात की योजना नहीं है।

Comments

Most Popular

To Top