Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: फ्रांस के साथ वायुसेना का छठा गरूड़ अभ्यास 1 जुलाई से

छठा गरूड़ अभ्यास

नई दिल्ली।  फ्रांस की वायुसेना के साथ  गरूड़ साझा युद्धाभ्यास के लिये भारतीय वायुसेना की टीम  बरेली और आगरा  वायुसैनिक स्टेशनों से फ्रांस के लिये रवाना हो गई।





भारत और फ्रांस के बीच यह साझा वायुसैनिक अभ्यास  01 से 12 जुलाई तक फ्रांस के मोंत  द मोर्सन के वायुसैनिक अड्डे पर होगा। दोनों देशों के बीच यह छठा साझा युद्धाभ्यास होगा।  दोनों देशों के बीच 5वां गरूड़ साझा युद्धाभ्यास जोधपुर वायुसैनिक अड्डे पर 2014 में  हुआ था।  दोनों वायुसेनाओं के बीच छठा गरूड़ वायुसैनिक अभ्यास अब तक का सबसे बड़ा होगा।  वायुसेना के सुखोई-30 एककेआई विमान  फ्रांसीसी राफेल लड़ाकू विमानों के साथ युद्ध के अभ्यास में शामिल होंगे।

गरूड़ युद्धाभ्यास में भाग लेने के लिये भारतीय वायुसेना के  120 सैनिक भाग लेंगे। ये सैनिक अपने साथ चार सुखोई-30-एमकेआई लड़ाकू विमान  और आईएल-78 एयर रिफ्युलर विमान के साथ रवाना हुए हैं।  इस अभ्यास के लिये भारतीय वायुसेना के सी-17- ग्लोबमास्टर विमान लॉजिस्टिक्स समर्थन देंगे।

यहां वायुसेना के प्रवक्ता ने बताया कि इस अभ्यास से दोनों वायुसेनाओं के बीच आपसी तालमेल और एक दूसरे की  श्रेष्ठ प्रक्रियाओं औऱ रणनीति  को समझने का मौका मिलेगा।  इस साझा युद्धाभ्यास से दोनों वायुसेनाओं के बीच पेशेवर आदान प्रदान को बढ़ावा मिलेगा।  इस अभ्यास से भारतीय वायुसैनिकों को अंतरराष्ट्रीय माहौल में युद्ध संचालन  का अनुभव मिलेगा।

Comments

Most Popular

To Top