Air Force

छावनी के पास लगी आग, वायुसेना को भी जूझना पड़ा

उदयपुर: राजस्थान के उदयपुर शहर में एकलिंगगढ सेना छावनी के पीछे पहाड़ियों पर लगी आग को बुझाने का काम आज लगातार दूसरे दिन जारी रहा। एनडीआरएफ, सेना के जवान और वायुसेना के हेलिकॉप्टर ने आग पर काबू पाने के लिए कड़ी मेहनत की। दूसरी तरफ, छावनी में आग न पहुंचे इसके लिए 200 सैनिकों की टुकड़ी के साथ दमकल कर्मियों ने भी कई घंटे मेहनत की। यह आग पहाड़ियों में लगभग 40 हेक्टेयर क्षेत्र में लगी थी।





आग बुझाने के लिए पहुंचे वायुसेना के एमआई-17वी05 हेलीकॉप्टर ने पहले पहाड़ी के चारों ओर दो चक्कर लगाकर स्थिति को देखा और बाद में पिछोला झील से पानी के तीन हजार लीटर भराव क्षमता वाले बकेट को भर कर आग वाले स्थानों पर छिड़काव किया। हेलिकॉप्टर से एकलिंगगढ़ की पहाड़ियों के अग्नि प्रभावित हिस्सों पर बुधवार सुबह तक करीब 25 हजार लीटर पानी डाला गया।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार आग पर काबू पाने के लिये हेलीकॉप्टरों द्वारा पिछोला झील से पानी का छिडकाव किया जा रहा है। छावनी की पहाड़ियों में लगी आग पर काबू पाने के लिये एनडीआरएफ की टीमों सहित स्थानीय पुलिस एवं दमकलें भी कल से जुटी हुयी हैं। एकलिंगगढ सेना के कैम्प से जुडी होने के कारण इन पहाड़ियों पर लगी आग का असर छावनी में रहने वाले निवासियों पर भी पड़ रहा है।

लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष ओझा ने बताया कि सेना की सतर्क टुकडी ने समय रहते आग पर काबू पाने के लिए वन विभाग, अग्निशमन विभाग और स्थानीय प्रशासन की मदद से प्रयास शुरु कर दिए। रात भर चले आपरेशन में छावनी क्षेत्र और आसपास संरक्षित वन इलाके में सेना और स्थानीय प्रशासन ने आग को फैलने से रोकने के लिए प्रभावी प्रयास किए। उन्होंने बताया कि आग करीब करीब बुझ गई है लेकिन सेना और वायुसेना के जवानों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए फिलहाल सतर्क रखा गया है।

Comments

Most Popular

To Top