Air Force

पहली बार अपने 12,000 अफसरों को वायुसेना प्रमुख ने लिखी ऐसी चिट्ठी

एयरचीफ मार्शल बीएस धनोवा

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने अपने अधिकारियों को भारत में बढ़ते पड़ोसी खतरे को देखते हुए शॉर्ट नोटिस पर किसी भी अभियान  के लिए तैयार रहने के लिए आगाह किया है। एयर चीफ मार्शल ने वायुसेना के 12,000 अधिकारियों को इस बारे में पत्र लिखा है। धनोआ द्वारा वायुसेना प्रमुख का पद संभालने के महज तीन माह बाद 30 मार्च को लिखे गए ये पत्र सभी वायुसेना अधिकारियों को भेजे गए।





इतने बड़े स्तर पर इससे पहले नहीं लिखी गई चिट्ठी

ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी वायुसेना प्रमुख ने चिट्ठी लिखकर अधिकारियों तक अपनी बात पहुंचाई हो। इससे पहले 1 मई 1950 को तत्कालीन थलसेना प्रमुख केएम करिअप्पा ने तथा 1 फरवरी 1986 को थल सेना प्रमुख के. सुंदरजी ने इस तरह की चिट्ठी लिखी थी, लेकिन वायुसेना द्वारा इतनी बड़ी संख्या में चिट्ठी लिखकर अधिकारियों को सावधान करने का यह पहला मौका है।

इस पत्र में धनोआ ने अफसरों को सावधान करते हुए कहा, ‘मौजूद हालात में हमेशा से बने हुए खतरे की संभावना बढ़ रही है। इसलिए हमें मौजूदा संसाधनों के साथ ही शीघ्र सूचना पर बड़े अभियान के लिए तैयार रहना होगा। हमारे प्रशिक्षण कार्यक्रम भी इसी को ध्यान में रखकर चलाए जाने चाहिए।’

संसाधनों की कमी की ओर किया इशारा

मौजूदा संसाधनों के बारे में जिक्र करने का उनका इशारा लड़ाकू बेड़े की कमी की तरफ हो सकता है क्योंकि वायुसेना 42 लड़ाकू विमानों के लिए अधिकृत हैं जबकि वायुसेना के पास अभी केवल 33 स्क्वाड्रन ही हैं। उन्होंने कहा कि हमें खुद को नई और लेटेस्ट तकनीकी के साथ अपडेट रखना होगा क्योंकि हमारे पास इसके अतिरिक्त कोई अन्य रास्ता नहीं है। धनोआ ने वायुसेना के भीतर पक्षपात और यौन शोषण के बढ़ते मामलों का भी जिक्र किया और कहा कि प्रत्येक एयरफोर्स स्टेशन को उनके आॅपरेशन के आधार पर आंका जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक वायुसेना से जब इस तरह अधिकारियों को सावधान किए जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इस पर कोई टिप्पणी नहीं करते हुए इसे आंतरिक मामला बताया।

Comments

Most Popular

To Top