Air Force

कमांड अस्पताल से लापता हो गया वायु सेना अधिकारी !

वायु-सेना-अधिकारी-ब्रजेश-कुमार-शुक्ला

कोलकाता। अलीपुर में स्थित कमांड अस्पताल से लापता वायु सेना अधिकारी ब्रजेश कुमार शुक्ला (52) के बारे में 10 दिनों बाद भी कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। वह पिछले चार मई को अस्पताल से लापता हो गए थे। अस्पताल व परिजनों की ओर से इस बारे में अलीपुर थाना के जरिए लालबाजार पुलिस मुख्यालय के गुमशुदा खोज विभाग में शिकायत दर्ज करवाई गई है। इस मामले में वायु सेना भी कोलकाता पुलिस को जांच में सहयोग कर रही है लेकिन अधिकारी की गुमशुदगी पर अभी भी रहस्य बना हुआ है।





ब्रजेश के बेटे तरुण शुक्ला ने कहा कि चार मई की शाम अस्पताल से बाहर निकलते हुए उनके पिता CCTV में कैद हुए हैं लेकिन उसके बाद वे कहां गए इसकी जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है। इस बारे में रक्षा मंत्रालय के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी एसएस बिर्दी ने कहा ‘ब्रजेश की गुमशुदगी को एयरफोर्स बगैर छुट्टी अनुपस्थिति मानकर चल रही है। उन्हें तलाशने में हम पूरी तरह से कोलकाता पुलिस के साथ सामंजस्य बनाकर चल रहे हैं। यह पूछने पर कि 10 दिनों बाद भी ब्रजेश के बारे में कोई जानकारी क्यों नहीं मिल पा रही है, बिर्दी ने कहा ‘कोलकाता पुलिस मामले की जांच कर रही है। अस्पताल व आस-पास के इलाकों में मौजूद CCTV फुटेज को खंगालने का सुझाव हमने पुलिस को दिया है। लेकिन CCTV खंगाले गए हैं या नहीं इसकी जानकारी फिलहाल पुलिस की ओर से नहीं दी गई है।

उल्लेखनीय है कि असम के जोरहाट में तैनात एयफोर्स के जूनियर वारंट ऑफिसर ब्रजेश कुमार शुक्ला को मोतियाबिंद के ऑपरेशन के लिए 26 अप्रैल को कमांड हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया था। दो मई को उनका ऑपरेशन हुआ और पांच मई को उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिलनी थी। इस बीच चार मई को ही वह अस्पताल के बेड पर अपना मोबाइल व अन्य सामान छोड़कर रहस्यमय तरीके से अस्पताल से बाहर निकल गए। चार मई को 5:27 बजे अस्पताल की सीसीटीवी फुटेज में उन्हें निकलते हुए देखा गया है। उसके बाद उनकी कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। अचानक इस तरह से अस्पताल से उनके गायब होने व 10 दिनों बाद भी उनका कोई सुराग नहीं मिलने की वजह से सुरक्षा व्यवस्था पर कई सवाल खड़े हो गए हैं।

पिता को तलाशने के लिए बेटे तरुण ने दोस्तों व अन्य रिश्तेदारों के साथ मिलकर सोशल साइट पर मुहिम चला रखी है। उन्होंने बताया कि करीब 30 सालों तक पिता ने देश की सेवा की है। उनकी खोज के लिए हम लोग सोशल प्लेटफार्म सहित हर तरह की कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री व रक्षा मंत्रालय के पास भी अपील करने का संकेत उन्होंने दिया है। तरुण ने बताया कि एयरफोर्स की ओर से मामले की जांच तो की ही जा रही है, हम लोग भी अपनी ओर से हरसंभव कोशिश कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top