Air Force

भारतीय वायुसेना मिग- 29 को और ताकतवर बनाने की तैयारी में

नौसेना का मिग-29
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना रूस से 21 नए मिग- 29 लड़ाकू विमानों का अधिग्रहण करने और उन्हें स्वदेशी हथियार प्रणालियों जैसे एस्ट्रा एयर टू एयर मिसाइल से लैस करने की तैयारी में हैं। इससे यह विमान और मारक हो जाएगा। समाचार एजेंसी के मुताबिक 21 मिग- 29 को नए मिग- 29 ले अपग्रेड करना चाहती है जो पहले से से वायुसेना में सेवा में है।





भारतीय वायुसेना यह भी चाहती है कि विमान को एस्ट्रा मिसाइलों समेत भारतीय हथियार प्रणालियों से लैस किया जाए।

सूत्रों ने कहा कि इस सौदे के बाद अन्य स्वदेशी उपकरण और हथियारों से विमान को लैस किया जाएगा। स्वदेशी हथियारों को बढ़ावा देने की खबर ऐसे वक्त आई है जब वायुसेना चीफ आरकेएस भदौरीया ने यह साफ कर दिया है कि वायुसेना लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस और 5वीं पीढ़ी के एडवांस मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट प्रोग्राम जैसे स्वदेशी कोशिशों का पूरी तरह से समर्थन करेगा।

भारतीय वायुसेना ने यह जांचने के लिए एक अध्ययन किया था कि क्या मिग- 29 के एयरफ्रेम लंबे समय तक काम करने के लिए पर्याप्त हैं। लड़ाकू विमान मिग- 29 को भारतीय वायुसेना द्वारा उड़ाया जाता है और पायलट इससे परिचित होते हैं पर रूसियों द्वारा पेश की जाने वाली वस्तुएं भारतीय सूची से अलग हैं।

भारतीय नौसेना मिग- 29 का संचालन करती है और विमान के इस संस्करण की एकमात्र ऑपरेटर है। इन विमानों का रख-रखाव बेहद मुश्किल है तथा विमान वाहक पर उतरने के फौरन बाद उनकी सेटिंग्स चेंज हो जाती है। भारतीय वायुसेना के पास मिग- 29 के तीन स्क्वाड्रन हैं, जिन्हें आगे इस्तेमाल करने के लिए अपग्रेड किया गया है और इसे वायु रक्षा के मकसद से काफी अच्छा विमान माना जाता है।

 

Comments

Most Popular

To Top