Air Force

गरुड़ कमांडो फोर्स : लिस्ट में हथियार हैं बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं !

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना के गरुड़ कमांडो को नए हथियार दिए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय ने नए हथियारों की लिस्ट बना ली है और उसे सार्वजनिक किया है। दरअसल, गरुड़ कमांडो को नए हथियारों से लैस करने की योजना पिछले साल पठानकोट एयरवेज पर आतंकी हमला होने के बाद ही बना ली गई थी। हमले में गरुड़ कमांडो ही निशाना बने थे। नए हथियारों की खरीदारी का मकसद गरुड़ का विस्तार करना भी समझा जा रहा है।





सरकारी टेंडर साइट के मुताबिक, जिन नए हथियारों की खरीद की जानी है उनमें 7.62 MM की 600 राइफल, 200 अंडर बैरेल ग्रेनेड लॉन्चर, 9 MM की 2000 पिस्तौल, 1800 सब मशीन गन, 120 नाइट विजन उपकरण, 50-60 बख्तरबंद वाहन शामिल हैं। इसके अलावा नई बुलेटप्रूफ जैकेट्स खरीदने की भी बात चल रही थी लेकिन फिलहाल इसे शामिल नहीं किया गया है।

बख्तरबंद वाहन के लिए सिर्फ भारतीय वेंडर

रक्षा मंत्रालय ने नए हथियारों की खरीद का इरादा जताते हुए वेंडरों से सूचना का आग्रह भी किया है। साथ ही यह भी स्पष्ट किया है अन्य हथियारों और सामान की आपूर्ति करने के लिए लिए बेशक विदेशी कम्पनियों को टेंडर में शामिल किया जाएगा लेकिन बख्तरबंद वाहन के लिए सिर्फ भारतीय वेंडर ही योग्य होंगे।

गरुड़ कमांडो

भारतीय वायुसेना ने 2004 में अपने एयर बेस की सुरक्षा के लिए इस गरुड़ कमांडो फोर्स की स्थापना की। मगर गरुड़ को युद्ध के दौरान दुश्मन की सेना के पीछे काम करने के लिए ट्रेंड किया गया है। आर्मी फोर्सेस से अलग ये कमांडो काली टोपी पहनते हैं। हलांकि अब तक इन्होंने कोई बड़ी लड़ाई नहीं लड़ी है और इन्हें मुख्य तौर पर माओवादियों के खिलाफ मुहिम में शामिल किया जाता रहा है।

Comments

Most Popular

To Top