Air Force

ये हैं Indian Airforce से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) दुनिया की बेहतरीन वायु सेनाओं में से एक है। 8 अक्टूबर 1932 से वर्तमान तक यह अपनी ताकत को साबित करती आई है और पूरे देश को हवाई सुरक्षा प्रदान करने में अपना कर्तव्य निभा रही है। आइए जानते हैं, भारतीय वायुसेना से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातें, जो हर भारतीय का सिर गर्व से ऊंचा कर देती हैं।





भारतीय वायुसेना कितनी मजबूत है इसे साबित करने की आवश्यकता नहीं है।

इसमें लगभग 1,380 विमान जिसमें लगभग 700 फाइटर, 6 हवाई र्इंधन भरने वाले विमान, 133 परिवहन एयरक्राफ्ट, 158 ट्रेनर एयरक्राफ्ट, 33 अटैक हेलिकॉप्टर, 156 ट्रांसपोर्ट हेलिकॉप्टर, 155 यूटिलिटी हेलिकॉप्टर, तकरीबन 200 यूएवी और 265 फाइटर एयरक्राफ्ट शामिल हैं। 1,70,000 कर्मचारियों के साथ Indian Airforce दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है। पहले स्थान पर अमेरिका, दूसरे पर चीन और तीसरे पर रूस है। भारतीय वायुसेना विश्व की सातवीं सबसे मजबूत एयरफोर्स है-जर्मनी आॅस्ट्रेलिया और जापान से भी ज्यादा बेहतर।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

विश्व की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है आईएएफ

भारतीय वायुसेना का गठन 8 अक्टूबर 1932 को किया गया था उस वक्त इसमें कुल 25 जवान शामिल थे जिनमें 19 युद्धक पायलट थे।

भारतीय वायुसेना को पहले भारतीय थलसेना कंट्रोल करती थी। एयर मार्शल सर थॉमस वॉकर एल्मिर्हिस्ट भारतीय वायुसेना के पहले एयर मार्शल थे।

आईएएफ फ्लैग को 1951 में गृहण किया गया था। ये नीले आसमानी रंग का होता है और इसके पहले कोने पर भारत का राष्ट्रीय ध्वज होता है तथा दाएं कोने पर एक तिरंगा गोला बना होता है, जिसमें भारतीय ध्वज वाले ही तीन रंग होते हैं।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

ऐसा है वायुसेना का झंडा

आईएएफ राउंड पैनल पर लगा लोगो और आईएएफ फ्लैग 1933 से अभी तक चार बार बदला जा चुका है।

यही नहीं, 1945 से 1950 तक आईएएफ को रॉयल इंडियन एयरफोर्स के रूप में जाना जाता था।

आईएएफ का आदर्श वाक्य नभ स्पृशं दीप्तम्ं को श्रीमद्भगवदगीता के ग्यारहवें अध्याय से लिया गया है। इसका अर्थ होता है ‘Touch The Sky With Glory’ जिस तरह भगवान कृष्ण अर्जुन को अपना दिव्य रूप दिखाते हैं, उसी तरह भारतीय वायुसेना का उद्देश्य राष्ट्र की रक्षा करना और एयरोस्पेस पावर के साथ दुश्मनों को खत्म करना है।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

भगवद गीता से उठाया गया है आदर्श वाक्य

एयरमार्शल पद्मावेथी बंदोपाध्याय इंडियन एयरफोर्स की एयर मार्शल बनने वाली पहली महिला हैं, यही नहीं वह एविएशन मेडिसिन में विशेषज्ञता हासिल करने वाली भी देश की पहली महिला हैं।

वर्तमान में भारतीय वायुसेना में तकरीबन 300 महिला पायलट हैं।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

पहली महिला एयरमार्शल पद्मावेथी बंदोपाध्याय

भारतीय वायुसेना लद्दाख की दौलत बेग ओल्दी हवाई पट्टी पर 16614 फीट यानि 5065 मीटर की ऊंचाई पर सी-130जे की लैंडिंग सर्वाधिक ऊंचाई पर कर विश्व कीर्तिमान स्थापित कर चुकी है।

ये उपलब्धि आईएएफ ने चीन के खिलाफ अपने ताकत के प्रदर्शन के दौरान 20 अगस्त 2013 को हासिल की थी।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

शक्ति प्रदर्शन के दौरान सबसे ऊंची विमान लैंडिंग करा बना चुकी है वर्ल्ड रिकॉर्ड

वायुसेना के 60 से भी अधिक एयरबेस हैं तथा पश्चिमी वायु कमान 16 एयरबेस के साथ सबसे बड़ी एयर कमांड है।

केंद्रीय कमान 7 एयरबेस के साथ सबसे छोटा एयरबेस है। ताजिकिस्तान के पास फर्कहोर में स्थित फर्कहोर एयरबेस देश के बाहर स्थित पहला और एकमात्र मिलिट्री बेस है।

आईएएफ उत्तराखंड में आई बाढ़ के दौरान फंसे नागरिकों को बचाने लिए भी वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुकी है। आॅपरेशन राहत के तहत हेलिकॉप्टरों का उपयोग कर किसी भी वायुसेना द्वारा किया गया सबसे बड़ा बचाव अभियान था।

भारतीय वायुसेना (आईएएफ)

आॅपरेशन राहत में एयरफोर्स ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

इस अभियान के तहत आईएएफ ने 20,000 नागरिकों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया था।

इस अभियान के दौरान वायुसेना के विमानों ने कुल 2,140 उड़ाने भरीं और कुल 3,82,400 किलोग्राम राहत सामग्री और उपकरण पहुंचाए थे।

C-17 ग्लोबमास्टर 3, सी-130J सुपर हरक्यूलिस और II-76 तीन सबसे बड़े परिवहन एयरक्राफ्टों को भारतीय वायुसेना ही आॅपरेट करती है।

भारतीय वायुसेना

सबसे बड़े परिवहन विमानों को भी संचालित करती है भारतीय वायुसेना

दिल्ली में पालम स्थित इंडियन एयरफोर्स म्यूजियम में भारतीय वायुसेना की दुर्लभ यादें संग्रहित हैं और ये भारतीय वायुसेना के इतिहास को प्रदर्शित करता है। इसकी स्थापना 1932 में की गई थी।

Comments

Most Popular

To Top