Air Force

लापता सुखोई-30MKi तलाश में खराब मौसम-बारिश बनी रोड़ा

सुखोई-30 MKi लड़ाकू विमान

गुवाहाटी/इटानगर। असम व अरुणाचल प्रदेश के सीमा क्षेत्र में चीन बार्डर के पास Indian Airforce के सुखोई-30MKi लापता विमान की खोज गुरुवार को फिर शुरू हुई। अभी तक की खबर के अनुसार न विमान का कोई सुराग लगा है और न ही पायलटों का। बीते मंगलवार को 11:30 बजे विमान नियमित प्रशिक्षण उड़ान के दौरान लापता हो गया था।





कल खोजी अभियान को बरसात और अंधेरा होने के कारण रोक दिया गया था। इस खोज मिशन के लिए Indian Airforce के विद्युत-ऑप्टिकल पेलोड से लैस C-130 एयरक्राफ्ट, एएलएच और चेतक हेलीकॉप्टर को लड़ाकू विमान सुखोई-30MKi की तलाश में लगाया गया है। हालांकि, इस तलाशी अभियान में खराब मौसम और लगातार हो रही बारिश अवरोधक बन रही है।

लापता विमान का पता लगाने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में इंडियन एयरफोर्स (IAF) के ग्राउंड स्टाफ के चार, भारतीय सेना के नौ और राज्य प्रशासन के दो दलों को तैनात किया गया है। मगर अब तक विमान और उसके पायलटों को ढूंढने में कोई सफलता नहीं मिली है। पायलटों के बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। ये दोनों पायलट स्क्वाड्रन लीडर हैं।

असम और अरुणाचल प्रदेश के आसपास के इलाकों में जहां पर भी हादसे की संभावना है, उसके चप्पे-चप्पे की टोह ली जा रही है। लेकिन मौसम खराब होने के चलते बचाव व खोज अभियान को बीच-बीच में रोकना पड़ रहा है।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार की सुबह 10.30 बजे एयरफोर्स का सुखोई-30 MKi लड़ाकू विमान नियमित प्रशिक्षण उड़ान पर रवाना हुआ था। एयरफोर्स सूत्रों ने बताया कि सुखोई-30 एमकेआई का रडार से संपर्क दिन के 11.30 बजे के आसपास तक था। उसके बाद से रडार व रेडियो से उसका संपर्क टूट गया।

सूत्रों ने बताया है कि सुखोई-30 MKi में एयरफोर्स के दो पायलट सवार थे। शोणितपुर और लखीमपुर जिले के सीमाई इलाके नारायणपुर के बरडूबिया इलाके तक विमान से रडार का संपर्क था। उसके बाद अचानक वह रडार से गायब हो गया। एयरपोर्ट अथारिटी ने आशंका जताई है कि सुखोई-30 MKi अरुणाचल प्रदेश के जंगलों में दुर्घटनाग्रस्त हो गया है।आखिरी बार सुखोई-30 को अरुणाचल प्रदेश और चीन बार्डर पर डाल्संग इलाके में देखा गया था।

Comments

Most Popular

To Top