Air Force

Indian Airforce ने माउंट धौलागिरि पर लहराया तिरंगा

भारतीय वायुसेना

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के स्क्वाड्रन लीडर कैविन निशान के नेतृत्व में पर्वतारोहियों के तीन सदस्यों ने बेहद चुनौतीपूर्ण चढ़ाई को पूरा करते हुए 20 मई को शाम 5 बजकर 30 मिनट पर माउंट धौलागिरि की चोटी पर तिरंगा और एयरफोर्स का ध्वज लहराया। अन्य सदस्यों में कॉरपोरल रविंद्र और कॉरपोरल जेपी एस रैना शामिल थे। 8167 मीटर (26795 फीट) की ऊंचाई वाले धौलागिरि को दुनिया का 7वां सबसे ऊंचा पर्वत माना जाता है।





भारतीय वायुसेना के पर्वतारोही टीम के 12 सदस्यों के दल में एक महिला पर्वतारोही भी शामिल थी। इस दल ने 15 अप्रैल 2017 को नेपाल स्थित माउंट धौलागिरि पर्वत पर पर्वतारोहण अभियान शुरू किया था।

भारतीय वायु सेना के पर्वतारोही की इस टीम का नेतृत्व ग्रुप कैप्टन आर.सी.त्रिपाठी ने किया। यह टीम 8 दिन की कठिन यात्रा के बाद बेस कैम्प पर पहुंची थी। बेस कैम्प पर टीम को आगे की चुनौती के लिए तैयार करने के लिए एक सप्ताह की कड़ी ट्रेनिंग दी गई थी। अपना अभियान शुरू करने के लिए टीम को खराब मौसम से निपटने के बारे में एक सप्ताह तक पूरी जानकारी दी गई। 18 मई 2017 को जब मौसम साफ हुआ तो यह दल अपने लक्ष्य के लिए तैयार हुआ। दल को दो ग्रुपों में बांटा गया था।

यह वाकई में वायुसेना के लिए एक गौरवपूर्ण पल था। इससे पहले 2005 में वायुसेना ने तब इतिहास बनाया था जब इसने अपने पहले ही प्रयास में विश्वर की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा और वायुसेना का झंडा फहराया था और 2011 में इस उपलब्धि को फिर दोहराया गया था।

Comments

Most Popular

To Top