Air Force

संकरी रोड पर MI-17 लैंड करा घायलों को ले आई एयरफोर्स

एयरफोर्स के कमांडो

बीजापुर। बीजापुर के बीहड़ों में रविवार की दोपहर एयरफोर्स (Airforce) कमांडो की जांबाजी ने सभी को हैरान कर दिया। एयरफोर्स के कमांडो ने जान की परवाह किये बगैर District Reserve Guards (डीआरजी) के दो जवानों को न सिर्फ वक्त रहते अस्पताल पहुंचाया, बल्कि उनकी जान भी बचायी। हालात के मद्देनजर डीआरजी के उन दो घायल जवानों को बासागुड़ा के जंगलों से महफूज निकालना बिल्कुल भी आसान नहीं था। दरअसल, रविवार की रात नक्सलियों से हुयी मुठभेड़ में एसटीएफ का एक जवान सुलभ उपाध्याय शहीद हो गया था और डीआरजी के ये दो जवान बुरी तरह घायल हो गए थे। मुठभेड़ में कम से कम तीन नक्सलियों के मारे जाने का पुलिस ने दावा किया है।





एयरफोर्स के कमांडो

बीजापुर के बीहड़ों में एयरफोर्स (Airforce) के इन कमांडो की जांबाजी ने सभी को हैरान कर दिया।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, बासागुड़ा थाने से पुलिस का संयुक्त बल तर्रेम की ओर गश्त सर्चिंग के लिए रवाना हुआ था। तर्रेम पहाड़ी के निकट जंगल में पुलिस की नक्सलियों से मुठभेड़ हो गयी। वारदात की पुष्टि करते हुए डीआईजी पी. सुंदरराज ने बताया मुठभेड़ स्थल पर मौजूद परिस्थितिजन्य साक्ष्य, खून के धब्बे एवं घसीटे जाने के निशान से यह साबित होता है कि कम से कम 3-4 नक्सली मारे गए हैं और कई लहूलुहान हुए हैं। साथियों के शव नक्सली अपने साथ ले जाने में कामयाब रहे। उन्होंने बताया कि बस्तर में नक्सलियों के खिलाफ सर्चिंग तेज कर दी गयी है, प्रत्येक संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील इलाकों में पुलिस दबिश दे रही है।

घायल दो जवानों को रायपुर पहुंचाने के लिए एयरफोर्स के दो एमआई-17 जगदलपुर से रवाना हुए। लेकिन बीहड़ों में न तो हेलीपैड बना था और न ही वक्त उतना था कि डीआरजी के उन घायल जवानों को हेलीपैड तक लाया जा सके। आसपास नक्सली छिपे होने की भी संभावना थी। ऐसे चुनौतीपूर्ण हालात में एयरफोर्स ने जान की बाजी लगा दी। आनन-फानन में एक हाईरिस्क ऑपरेशन शेड्यूल किया गया, जिसमें एक संकरी सड़क पर पहले हेलीकाप्टर को लैंड कराया गया। आसपास नक्सलियों की मौजूदगी का खतरा था, सो सिर्फ एक एमआई-17 नीचे उतरा दूसरे एमआई-17 हेलीकाप्टर ने आसमान में मंडराते हुए सुरक्षा का जिम्मा संभाला और लैंड किए एमआई-17 को कवरअप किया।

एयर कमोडोर अजय शुक्ला के मुताबिक ये एक हाईरिस्क ऑपरेशन था, लेकिन इंडियन एयरफोर्स के क्रू ने बेहद जांबाजी दिखाते हुए दोनों डीआरजी के जवानों को जंगलों से निकालने में कामयाबी हासिल की। एमआई-17 ने बारसागुड़ा से सीधे जवानों को रायपुर पहुंचाया। हालांकि ये कोई पहला वाकया नहीं है, जब एयरफोर्स की जांबाजी दिखी हो, लेकिन बिना हेलीपैड के जंगल के करीब हेलीकाप्टर को उतारने का मिशन गाहे-बगाहे ही अंजाम दिया गया था।

शहीद जवान सुलभ को दिया गया गार्ड ऑफ आनर

जगदलपुर। आज सुबह एसटीएफ के शहीद जवान सुलभ उपाध्याय का शव का पुलिस लाइन ले जाया गया। जहां पर बस्तर आईजी के अलावा अन्य अधिकारियों ने गार्ड ऑफ आनर देने के बाद जवान के शव को हेलिकाप्टर से गृहग्राम भेजा गया।

मामले के बारे में जानकारी देते हुए सुलभ उपाध्याय के साथियों ने बताया कि जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने एकाएक गोलीबारी करना शुरू कर दिया। इस हमले में जवान सुलभ उपाध्याय के सिर में गोली जा लगी, जिससे वह शहीद हो गया। घटना के बाद जवानों ने मोर्चा संभाला लेकिन नक्सली भाग खड़े हुए।

शहीद जवान को सलामी देने बस्तर आईजी विवेकानंद सिन्हा के अलावा बस्तर एसपी शेख आरिफ हुसैन व एसटीएफ के आला अधिकारियों के साथ ही बस्तर कलेक्टर अमित कटारिया मौजूद रहे।

Comments

Most Popular

To Top