Air Force

इलाहाबाद में चेतक के बाद बाड़मेर में वायुसेना का सुखोई विमान क्रैश, पायलट सुरक्षित

नई दिल्ली: यूपी के इलाहाबाद में आज सुबह वायुसेना का चेतक विमान क्रैश हुआ तो दोपहर होते-होते राजस्थान के बाड़मेर में वायुसेना का एक अन्य लड़ाकू विमान सुखोई-30 एमकेआई भी दुर्घटनाग्रस्त हो गया। सुखोई-30एमकेआई के दुर्घटनाग्रस्त होने से उसके परखचे उड़ गए, हालांकि पायलट सुरक्षित है। दुर्घटना की जानकारी मिलते ही वायुसेना के अधिकारी मौके पर पहुंच गए।





वायुसेना का चेतक हेलिकॉप्टर क्रैश, दोनों पायलट बचे

मिली जानकारी के मुताबिक, सुखोई 30 एमकेआई बाड़मेर जिले के शिवकर कुडला गांव के पास क्रैश हुआ। इस दुर्घटना से कुछ घरों में आग लगने की खबर है, जिस पर काबू पाने के लिए एयर फोर्स, क्रेयन इंडिया और जिला प्रशासन की दमकल गाड़ियां तुरंत मौके के लिए रवाना कर दी गईं। हादसे के बाद करीब 300 मीटर में विमान का मलबा फैल गया। विमान के क्रैश होकर नीच गिरन से तीन पोल टूट गए। वहां मौजूद तीन लोग बुरी तरह से झुलस गए जिन्हें  अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल मनीष ओझा ने कहा, ‘नियमित प्रशिक्षण उडान के दौरान सुखोई विमान बाड़मेर के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया। दोनों पायलट इससे निकलने में सफल रहे।’ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (बाड़मेर) रामेश्वर लाल ने बताया कि यह विमान सदर पुलिस थाना इलाके में शिवकर गांव के निकट दुर्घटनाग्रस्त हुआ।

पुलिस को हादसे की जानकारी दोपहर लगभग ढाई बजे दी गई जिसके बाद पुलिसकर्मियों समेत जिला प्रशासन के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए। वायुसेना अधिकारी भी हादसास्थल पर पहुंच गए। इस हादसे में तीन ग्रामीण घायल हुए हैं और उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों की पहचान नारायण राम, उनकी बहू दल्लूराम और 14 वर्षीय पोते हनुमानराम के रूप में की हुई है। थाना प्रभारी कोतवाली भंवर लाल ने बताया कि घायलों की हालत स्थिर है। बाड़मेर के सर्किल अधिकारी ओपी उज्जवल ने बताया कि गांव में कुछ कच्चे मकानों को भी नुकसान पहुंचा है।

आपको बता दें कि इससे पहले आज सुबह ही भारतीय वायुसेना (आईएएफ) का एक चेतक हेलिकॉप्टर उत्तर प्रदेश में इलाहाबाद के निकट बमरौली में तकनीकी खराबी के कारण दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस घटना में भी किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। घटना के कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी के आदेश दिए गए हैं।

जानिए क्या है सुखोई 30 एमकेआई

  • यह भारतीय वायुसेना का अग्रिम पंक्ति का लड़ाकू विमान है।
  • इसकी कीमत 2 करोड़ 50 लाख डालर है।
  • इसे रूस के सैन्य विमान निर्माता सुखोई तथा भारत के हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने मिलकर बनाया है।
  • इसके नाम में एमकेआई का मतलब मॉडर्नाइजिरोवेनाइल कोम्मर्चस्काई, इंडिकाई यानी मॉडर्नाइनिज्ड कमर्शियल इंडिया मतलब आधुनिक वाणिज्यिक भारत।
  • इसी श्रृंखला के सुखोई 30-एमकेके तथा एमके-2 विमानों को चीन तथा बाद में इण्डोनेशिया को बेचा गया था।
  • इसके अलावा एमकेएम, एमकेवी तथा एमकेए संस्करणों को मलेशिया, वेनेजुएला तथा अल्जीरिया को भी बेचा गया है।

सुखोई-30एमकेआई

  • सुखोई 30एमकेआई ने 1997 में पहली उड़ान भरी थी। सन 2002 में इसे भारतीय वायुसेना में सम्मिलित कर लिया गया।
  • सन 2004 से इनका निर्माण भारत मे ही हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है।
  • अक्टूबर 2009 में ऐसे 105 विमानों की 6 स्क्वाड्रन भारतीय वायुसेना की सेवा में थी।
  • ऐसे कुल 280 विमान हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा बनाये जाने की योजना है।
  • यह 3000 किमी की दूरी तक मार कर सकता है।
  • इसे दो एएल-31 टर्बोफैन इंजनों से ताकत मिलती है जो इसे 2600 किमी प्रति घण्टे की गति देते हैं।
  • यह विमान हवा में ईंधन भर सकता है।
  • इस विमान में अलग अलग तरह के बम तथा प्रक्षेपास्त्र ले जाने के लिये 12 स्थान हैं।
  • भविष्य में इसे ब्रह्मोस प्रक्षेपास्त्र से लैस किया जायेगा। इसके अलावा इसमें एक 30 मिमी की तोप भी लगी है।

हाल में हुए ये हादसे

13 जून 2016 : जोधपुर के रिहायशी इलाके में मिग-27 दुर्घटनाग्रस्त, तीन घायल

27 जनवरी 2015 : बाड़मेर में मिग-27 दुर्घटनाग्रस्त, बाइक सवार जख्मी

22 जनवरी 2014 : बीकानेर में जगुआर जेट दुर्घटनाग्रस्त

15 जुलाई 2013 : बाड़मेर के उतरलिया एयरबेस में लैंडिंग के दौरान मिग-21 दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत

7 जून 2013 : बाड़मेर में मिग-21 दुर्घटनाग्रस्त

19 फरवरी 2013 : जैसलमेर में सुखोई एसयू-30 दुर्घटनाग्रस्त, दोनों पायलट सुरक्षित

2 फरवरी 2013 : उतरलिया एयरबेस के पास बाड़मेर में मिग-27 दुर्घटनाग्रस्त

Comments

Most Popular

To Top