Air Force

8 साल में सुखोई (SU-30MKi) के 8 हादसे

सुखोई-30 MKi लड़ाकू विमान

नई दिल्ली। असम के तेजपुर बेस से भारतीय वायुसेना (Indian Airforce) के लड़ाकू विमान सुखोई (SU-30MKi) ने मंगलवार की सुबह 10.30 बजे उड़ान भरी। साढ़े ग्यारह बजे तक विमान का सम्पर्क एयर ट्रैफिक कंट्रोल में बना रहा, फिर अचानक ये विमान भारतीय रडार से गायब हो गया। सुखोई में पायलट और को पायलट थे लेकिन कंट्रोल रूम से उनका सम्पर्क भी टूट गया। विमान जिस जगह से लापता हुआ वो अरुणाचल प्रदेश के चीन से सटा इलाका है। चौबीस घंटे बीतने के बाद भी विमान या पायलटों का पता नहीं चल सका। विमान की खोजबीन में लगे लोगों का कहना है कि इस बारे में चीन से सम्पर्क किया गया लेकिन चीनी अधिकारियों को भी विमान के बारे में जानकारी नहीं है। आशंका थी कि सुखोई किसी दुर्घटना का शिकार हुआ है और आज (26 मई 2017) इसका मलबा मिल गया। इससे पहले 7 सुखोई हादसे का शिकार हो चुके हैं।





सिलसिलेवार देखा जाए तो भारत में 90 के दशक के अंत में वायुसेना के बेड़े में शामिल किए गए सुखोई का पहला हादसा 30 अप्रैल 2009 को राजस्थान के जैसलमेर में हुआ। इसमें एक पाललट की जान गई और दूसरा घायल हुआ था।

  • 30 नवंबर 2009 को प्रशिक्षण उड़ान पर गया सुखोई राजस्थान में पोखरण फायरिंग रेंज पर क्रैश हुआ। दोनों पायलट सुरक्षित निकल आए थे।
  • 13 दिसंबर 2009 में ही एक सुखोई पुणे के पास लोहेगांव एयर बेस से उड़ान भरते ही क्रैश हो गया। इसमें भी पायलटों ने कूदकर अपनी जान बचाई।
  • 19 फरवरी 2013 को जैसलमेर में वैसा ही हादसा हुआ। दोनों पायलट इसमें भी बच गए।
  • 14 अक्टूबर 2014 को भारत में सुखोई का पांचवां हादसा पुणे के पास हुआ। दोनों पायलटों ने अपनी जान बचा ली थी।
  • छठा हादसा 19 मई 2015 को तेजपुर से उड़ा सुखोई लाओखोवा में क्रैश हुआ। दोनों पायलट इस हादसे में खुद को बचाने में कामयाब रहे।
  • सातवां हादसा 15 मार्च 2017 को राजस्थान के बाड़मेर में हुआ। पायलटों की जान तो इसमें बच गई लेकिन गांव के तीन बाशिंदे घायल हो गए।

Comments

Most Popular

To Top