Air Force

बेसिक प्रशिक्षक विमानों की कमी से जूझ रही है वायुसेना

बेसिक प्रशिक्षक विमान
बेसिक प्रशिक्षक विमान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। खरीद प्रक्रिया में देरी और निर्माण में विलंब की वजह से भारतीय वायुसेना प्रशिक्षक विमानों की कमी से जूझ रही है। एक अखबार में प्रकाशित खबर के मुताबिक वायुसेना अभी विभिन्न श्रेणियों के 122 प्रशिक्षक विमानों की कमी से जूझ रही है। हाल ही में वायुसेना की एक रिपोर्ट में इसकी चर्चा है।





प्रशिक्षक विमानों की कमी की दो वजहें बताई जा रही हैं। पहली वजह खरीद प्रक्रिया में विलंब बताया गया है। दूसरी वजह मेक इन इंडिया के तहत देश में विमानों के निर्णाण में विलंब होना है। रिपोर्ट में बताया गया है कि वायुसेना को तीन तरह के विमानों की जरूरत पड़ती है। पहला बेसिक प्रशिक्षण विमान, दूसरा इंटरमीडिएट जेट ट्रेनर और तीसरा एडवांस जेट ट्रेनर। इन तीनों ही विमानों की गति अलग-अलग होती है और एक लड़ाकू पायलट को तीनों श्रेणियों के विमान उड़ाने के लिए दक्षता हासिल करनी होती है। एडवांस जेट ट्रेनर के प्रशिक्षण के बाद ही किसी पायलट को लड़ाकू विमान उड़ाने का प्रशिक्षण दिया जाता है।

वायुसेना को बेसिक विमानों की कमी सबसे ज्यादा खल रही है। वायुसेना के पास अभी 75 बेसिक प्रशिक्षक विमान हैं जबकि जरूरत 183 विमानों की है। इंटरमीडिएट जेट ट्रेनर के विमान होने चाहिए 99 लेकिन अभी उपलब्ध हैं 91 विमान। एडवांस जेट ट्रेनर विमान की खास कमी नहीं है। जरूरत 106 विमानों की है और उपलब्ध हैं 104 विमान।

वायुसेना ने प्रशिक्षक विमानों की जल्द आपूर्ति करने का आग्रह सरकार से किया है।

Comments

Most Popular

To Top