Army

सशस्त्र सेना को ताकत देगा IIT मद्रास से यह करार

चेन्नई: भारतीय सेना की तकनीकी विकास की जरूरतों को पूरा करने के लिए मद्रास आईआईटी आगे आया है। इसके तहत सेना और मद्रास आईआईटी ने समझौता किया है। समझौते पर दोनों पक्षों ने मंगलवार को हस्ताक्षर किए। इस समझौते का उद्देश्य उन महत्वपूर्ण क्षेत्रों को चिह्न्ति करना है, जिसे सशस्त्र सेना में सशक्त किया जा सके।





आईआईटी मद्रास ने मंगलवार को बयान जारी कर जानकारी दी कि आईआईटी मद्रास के निदेशक भास्कर राममूर्ति तथा डेप्युटी चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (पीएंडएस) लेफ्टिनेंट जनरल सुब्रत साहा ने इस संबंध में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। बयान के मुताबिक, “इस समझौता ज्ञापन का उद्देश्य आईआईटी जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों को आईआईटी मद्रास के शिक्षकों तथा सेना के अधिकारियों के बीच निर्बाध संबंधों के माध्यम से भारतीय सेना की महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी जरूरतों के प्रति बेहतर समझ का विकास करना है।”

भास्कर राममूर्ति ने कहा, “भारतीय सेना के साथ मिलकर आईआईटी मद्रास के शिक्षक उन क्षेत्रों की पहचान करेंगे, जिसमें संस्थान सकारात्मक योगदान कर क्षमता में बढ़ोतरी कर सकते हैं।”

समझौते के तहत, सेना चार अधिकारियों को पीएचडी करने के लिए आर्थिक मदद देगी, इसके अलावा 15 अधिकारियों को द्विवार्षिक स्तर पर पांच दिनों के प्रौद्योगिकी विकास कार्यक्रम के लिए भी आर्थिक मदद करेगी।

Comments

Most Popular

To Top