Air Force

जल्द ही समुद्र की निगरानी में लगेंगी SSC की महिला पायलट

नेवी अफसर

नई दिल्ली: रक्षा राज्य मंत्री डॉक्टर सुभाष भामरे ने राज्यसभा में आज बताया कि मार्च 2016 में शार्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) की महिला अफसरों को समुद्र टोह (एमआर) शाखा में पायलट के रूप में और नौसैन्य आयुद्ध निरीक्षणालय (एनएआई) संवर्ग में शामिल किए जाने के लिए अनुमोदन प्रदान किया गया है। वर्ष 2017 के मध्य से इन्हें शामिल किए जाने की योजना है।





उन्होंने बताया भारतीय वायुसेना ने महिलाओं को लड़ाकू शाखा में पांच वर्ष की अवधि के लिए प्रयोगात्मक आधार पर शामिल करने के लिए शॉर्ट सर्विस कमीशन (एसएससी) स्कीम में संशोधन किया है। पहले बैच की तीन महिला अफसरों को लड़ाकू शाखा में 18 जून, 2016 को कमीशन दिया गया था।

पहले बैच की इन तीन महिला अफसरों को लड़ाकू शाखा में 18 जून, 2016 को कमीशन दिया गया था।

वहीं, महिलाओं की सेना में भागीदारी बढ़ाने के लिए सरकार के द्वारा लिए गए निर्णयों की जानकारी देते हुए डॉ सुभाष भामरे ने सदन को बताया कि 2011 में सरकार ने तीनों सेनाओं की विशिष्ट शाखाओं अर्थात जज एजवोकेट जनरल (जेएजी) और सेना की सैन्य शिक्षा कोर (एईसी) तथा नौसेना एवं वायुसेना, में उनकी समकक्ष शाखाओं, नौसेना में नौसैन्य निर्माता और वायुसेना में लेखा शाखा में पुरुष एसएससीओ के साथ स्थाई कमीशन प्रदान किए जाने के लिए महिला शॉर्ट सर्विस कमीशन अफसरों पर विचार किए जाने को अनुमोदित किया है।

आठ हजार से ज्यादा महिला चिकित्साकर्मी सेना में

भारत की तीनों सशस्त्र सेनाओं एवं सशस्त्र सेना चिकित्सा अधिकारियों (दन्त चिकित्सा सहित) एवं नर्सिंग में महिला अधिकारियों की कुल संख्या 8950 है। यह जानकारी आज राज्यसभा में रक्षा राज्य मंत्री डॉक्टर सुभाष भामरे ने दी। उन्होंने सदन को बताया कि, 1 जनवरी 2017 के अनुसार भारतीय थल सेना में 1,528, नौसेना में 469 और वायुसेना में 1,581 महिला चिकित्सा अधिकारी हैं। वहीं, 4,094 महिला अफसर सिर्फ नर्सिंग के लिए हैं और दंत चिकित्सा से जुड़ी महिला अफसरों की संख्या 1,288 है।

सेना में महिला उत्पीड़न से जुड़े 12 मामले 

मंत्री ने सेना में महिलाओं से जुड़े उत्पीड़न और भेदभाव से जुड़े सवाल के जवाब में सदन को बताया कि पिछले तीन वर्ष में सेना में 6, नौसेना में 3, वायुसेना में 2, मेडिकल और नर्सिंग में 1 मामला सामने आया है।

राज्यसभा सांसद श्रीमती झरना दास बैद्य ने सरकार से सेना की मेडिकल कोर में महिला अधिकारियों की संख्या, पिछले तीन वर्षों में महिला सैन्य कर्मियों के उत्पीड़न, भेदभाव और महिलाओं की सेना में और अधिकर भागीदारी बढ़ाने के लिए सराकर द्वारा उठाए गए कदम से जुड़े सवाल पूछे थे।

Comments

Most Popular

To Top