Army

मृत जवान की मां को पेंशन मिलने में लग गए 8 वर्ष

भारतीय जवान
भारतीय जवान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश के इलाके में चीन से लगने वाली वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गश्त कर रहा जम्मू-कश्मीर राइफल का एक जवान 2009 में उफनती नदी में बह गया था लेकिन उसका शव नहीं मिलने की वजह से उसकी माता को सरकार के बाबू पेंशन नहीं दे रहे थे। पेंशन की हकदार जवान की मां को अंततः सशस्त्र सेना न्यायाधिकरण की शरण लेनी पड़ी।





रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने तत्काल  इस मसले की जांच करवाई। जम्मू-कश्मीर राइफल्स के शहीद जवान राइफलमैन रिंकू राम को आर्डिनरी फैमिली पेंशन भी नहीं दी गई थी क्योंकि पेंशन की दावेदार की पारिवारिक आय तयशुदा आय सीमा से अधिक थी। लेकिन इंडियन इविडेंस एक्ट के मुताबिक सात साल से जो व्यक्ति गायब है उसे मृत समझ लेना चाहिये। इसलिए राइफलमैन रिंकू राम को अरुणाचल प्रदेश सरकार ने चार अप्रैल,  2018 को मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किया गया। मृत्यु प्रमाण पत्र मिलने के बाद इलाहाबाद स्थित डिफेंस एकाउंट्स के प्रिंसिपल कंट्रोलर(पेंशन) ने पांच अप्रैल,2018 को रिंकू राम की मां श्रीमती कमला देवी को पेंशन पेमेंट आर्डर जारी कर दिया। सात नवम्बर, 2009 से 31 दिसम्बर,2015 तक कमला देवी को पेंशन की राशि सात हजार रुपये मासिक की दर से जारी की गई औऱ उसके बाद से पेंशन की राशि 17,990 रुपये कर दी गई। इसके अलावा कमला देवी को दस लाख रुपये की एक्सग्रेशिया राशि का भी भुगतान किया गया। उन्हें 86,106 रुपये की ग्रेच्युटी का भी भुगतान किया गया।

 

 

Comments

Most Popular

To Top