Forces

Special Report साझा सैन्य अभ्यास के लिए 1,000 आस्ट्रेलियाई सैनिक चेन्नै में

आस्ट्रेलियाई सैनिक

नई दिल्ली। भारतीय सेनाओं के साथ हर दो साल पर आय़ोजित होने वाले साझा सैन्य अभ्यास के लिये आस्ट्रेलिया की तीनों सेनाओं के एक हजार से अधिक सैनिक चैन्ने  के समुद्र तट पर 28 मार्च को पहुंचने वाले हैं। भारत में आस्ट्रेलियाई सेनाओं की अब तक की यह सबसे बड़ी सैन्य तैनाती होगी।





भारत में आस्ट्रेलिया की उच्चायुक्त हरिंदर सिद्धू ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह अभ्यास भारत और आस्ट्रेलिया के बीच  मजबूत होती सामरिक साझेदारी का एक हिस्सा है। उन्होंने कहा कि आस्ट्रेलिया औऱ भारत के बीच सहयोग  हिंद प्रशांत इलाके में सब को साथ लेकर चलने वाली नियम आधारित, सुरक्षित और स्थिर व्यवस्था के हिस्सा हैं।

आस्ट्रेलिया भारत साझा सैन्य अभ्यास का मुख्य जोर पनडुब्बी नाशक युद्ध पर केन्द्रित रहेगा। इस अभ्यास की जटिलता और विशालता से यह पता चलता है कि भारत और आस्ट्रेलिया के बीच साझेदारी कितनी गहरी है। हाई कमिश्नर सिद्धू ने कहा कि आस्ट्रेलिया अपने अंतरराष्ट्रीय सम्बन्धों में भारत को सर्वोच्च स्थान देता है। दोनों देशों के हिंद महासागर में विशाल समुद्री इलाके हैं और काफी बड़ी समुद्री क्षमता  है इसलिये  अपने साझा समुद्री इलाके को सुरक्षित और स्थिर बनाए रखने को तार्किक कहा जा सकता है।

आसइनडेक्स- 2019 हिंद प्रशांत इलाके में तैनाती के लिये एक अहम कड़ी है। भारत के साथ अभ्यास करने के बाद आस्ट्रेलियाई सैनिक दल इंडोनेशिया, मलयेशिया, सिंगापुर, श्रीलंका, वियतनाम  औऱ थाईलैंड के सद्भावना दौरे पर भी जाएगा।

 भारत के साथ साझा अभ्यास के लिये आस्ट्रेलियाई पोत एचएमएस सक्सेस  और एचएमएस पारामाट्टा  28 मार्च को पहुंचेंगे। ये पोत विशाखापतनम में पहले से पहुंचे युद्धपोत न्यूकैशल औऱ कैनबरा से मिलेंगे। सभी पोत भारतीय युद्दपोतों के साथ दो से 16 अप्रैल तक साझा युद्धाभ्यास करेंगे।  उच्चायुक्त ने कहा कि यह तैनाती हिंद प्रशांत देशों के साथ क्षेत्रीय समुद्री सुरक्षा सहयोग को बढ़ावा देने के लिये है।

Comments

Most Popular

To Top