Featured

वायुसेना की भर्ती परीक्षा ऑनलाइन होने का यह हुआ फायदा

भारतीय वायुसेना

नई दिल्ली। वायुसेना की भर्ती परीक्षा ऑनलाइन कराने का फायदा उन युवाओं को भी मिल रहा है जिनके नंबर कम हैं। नहीं, नहीं ऐसा कतई नहीं है कि वायुसेना ने भर्ती नियमों में कोई बदलाव किया है। नियम तो अब भी वहीं हैं। वायुसेना में जवान के रूप में भर्ती होने के लिए विज्ञान विषय के साथ 50 फीसदी अंकों के साथ बारहवीं की बोर्ड परीक्षा पास करना जरूरी है।





एक अखबार में प्रकाशित खबर के अनुसार पहले परीक्षा ऑफलाइन होती थी। वायु सेना 13 केन्द्रों पर परीक्षा आयोजित करता था। अमूमन चार लाख से ज्यादा आवेदन आते थे। चूंकि वायुसेना के पास सीमित संसधान हैं इसलिए सिर्फ 1.2 लाख आवेदकों को ही परीक्षा के लिए बुलाया जाता था। बारहवीं कक्षा में प्राप्त अंकों को आधार बनाकर आवेदकों को बुलाया जाता था। इस फार्मूले के आधार पर 76 फीसदी से कम अंक पाने वाले इच्छुक अभ्यर्थी आवेदन के स्तर पर ही छंट जाते थे। लेकिन ऑनलाइन परीक्षा में 1.2 लाख आवेदकों की सीमा समाप्त कर दी है। अब उन सभी आवेदकों को जिनके बारहवीं कक्षा में विज्ञान विषय के साथ 50 फीसदी अंक हैं, परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जा रहा है। हाल ही में संपन्न पहली ऑनलाइन परीक्षा में इस बार 1.2 लाख की बजाए 4.5 लाख छात्रों को परीक्षा देने का मौका मिला। जो 19 हजार परीक्षार्थी परीक्षा पास करने में कामयाब रहे उनमें से 3 हजार छात्र ऐसे भी हैं जिनके 50 से 76 फीसदी के बीच अंक हैं। अगर पहले की तरह ऑफलाइन परीक्षा होती तो ये तीन हजार छात्र आवेदन स्तर पर ही छंट जाते। परीक्षा पास करने वाले 19 हजार छात्रों को भर्ती के लिए कॉल लेटर भेजा जा रहा है। इस बार करीब साढ़े तीन हजार भर्तियां होनी हैं। कम अंक पाने वाले जिन परीक्षार्थियों को मौका मिला है उनमें से ज्यादातर उत्तर प्रदेश और बिहार के हैं। परीक्षा ऑनलाइन होने के कारण रिजल्ट भी जल्दी आया है और परीक्षा देने के लिए परीक्षार्थियों को अपने घर से ज्यादा दूर भी नहीं जाना पड़ा है। गौरतलब है कि पहले 13 केन्द्रों पर होने वाली यह परीक्षा इस बार 118 केन्द्रों पर कराई गई।

Comments

Most Popular

To Top