Featured

सैनिक डेयरी फार्म से जुड़ी ये 9 खास बातें

रक्षा मंत्रालय ने पिछले वर्ष  देश के 39 सैन्य फार्मों को बंद करने का आदेश दिया था। उस समय सरकार के इस फैसले पर कई सवाल उठाए गए थे। उस समय यह कहा जा रहा था कि इन फार्मों में जो गाय पाली गई हैं वे बेहतरीन नस्ल की हैं और अधिक दूध देने वाली हैं। आज उन्हीं गायों को टोकन अमाउंट लेकर बेचा जा रहा है। हाल ही में लखनऊ कैंट के डेयरी फार्म की तमाम गायों को उत्तराखंड भेजा गया है। धीरे-धीरे ये डेयरी फार्म भारतीय सेना के इतिहास में बीते दिनों की बात बन जाएंगे। आइये जानते हैं इन सैन्य फार्म से जुड़ी कुछ खास बातें-





खाद्यान की कमी को पूरा करने खोले गए थे फार्म

सैनिक डेयरी फार्म

पहला सैनिक फार्म 1889 में खुला था। 129 वर्ष पहले देश में खाद्यान की कमी हो जाने की वजह से सैनिक फार्मों की स्थापना की गई थी। इन फार्मों में सैनिक अपने लिए अनाज फल व सब्जियां उगाते थे और दूध के लिए पशुपालन भी करते थे।

Comments

Most Popular

To Top