Featured

स्वतंत्रता दिवस स्पेशलः वह हड़ताल जिसने अंग्रेजों को दिखाया भारत से बाहर का रास्ता, 9 खास बातें

1946 के नौसेना विद्रोह के बारे में आपने शायद ही सुना हो। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की ‘आजाद हिन्द फ़ौज’ की गतिविधियों के बाद अंग्रेजी हुकूमत की जड़ें हिलाने में कोई कामयाब हुआ तो वो था नौसेना का विद्रोह। 18 फरवरी को शुरू हुए इस विद्रोह में मुम्बई बंदरगाह पर ब्रिटिश भारतीय युद्धपोत HMS तलवार पर तैनात नाविकों और नौसेनिकों ने हड़ताल कर दी थी। कई विद्वानों का मानना है कि नौसेना के विद्रोह के बाद अंग्रेजों को लगने लगा कि अब वे भारत में नहीं टिक सकते। इस ऐतिहासिक और निर्णायक विद्रोह से जुड़ी कुछ अनजानी बातें आज हम आपको बता रहे हैं-





इस नौजवान ने अंग्रेजी जहाजों पर लिख डाले थे भारतीय नारे

एक 17 वर्षीय नौसैनिक बीसी दत्त ने अंग्रेजी जहाजों पर ‘आजाद हिन्द फ़ौज’ के नारे लिख दिये थे। अंग्रेजों ने बीसी दत्त को गिरफ्तार कर लिया। नौसैनिकों ने बीसी दत्त को रिहा करने की मांग की। अंग्रेजों के इनकार से नौसेनिक भड़क गए और उन्होंने हड़ताल कर दी।

Comments

Most Popular

To Top