Featured

पनडुब्बी को बचाने वाला पोत हुआ शामिल

इंडियन सबमरीन

नई दिल्ली। किसी डूबी हुई या दुर्घटनाग्रस्त पनडु्ब्बी  और इसमें सवार नौसैनिकों को बचाने वाले पोत डीप सबमर्जेंस व्हीकल (डीएसआरवी) का नौसेना ने सफल परीक्षण किया और इस तरह संकट में फंसी किसी पनड़ुब्बी औऱ इस पर सवार कर्मियों को बचाने की अहम क्षमता हासिल कर ली।





DSRV

डीएसआरवी एक ऐसा पोत है जिसके जरिये समुद्र की गहराई में जा कर संकटग्रस्त पनडुब्बी कर्मियों को सुरक्षित निकाला जासकता है। भारतीय नौसेना  के पास अब तक यह क्षमता नहीं थी। यह पोत तीन कर्मियों द्वारा संचालित होता है औऱ एक बार में यह संकटग्रस्त पनडुब्बी के 14 कर्मियों को बचा सकता है।

पहले समुद्री परीक्षण के दौरान इस  पोत ने 666 मीटर की गहराई पर गोता लगा कर पहुंचने की क्षमता दिखाई । भारतीय समुद्र में किसी मानवयुक्त पोत का इतनी गहराई तक पहुंचने का यह एक रिकार्ड है। डीएसआरवी ने  750 मीटर की गहराई तक भी जाकर  बचाव कार्य का अभ्यास किया। इसके अलावा पोत के जरिये साइड सोनार स्कैन आपरेशन भी किया गया जो भारतीय नौसेना के लिये पहला था।

Comments

Most Popular

To Top