Featured

स्पेशल रिपोर्ट: अफगान मसले के अमेरिकी दूत दिल्ली में

एम्बेसेडर ज़ाल्मे खलीलज़ाद

नई दिल्ली। अफगानिस्तान समस्या के समाधान के लिए अमेरिका के विशेष प्रतिनिधि एम्बेसेडर ज़ाल्मे खलीलज़ाद  ने यहां विदेश मंत्रालय में वरिष्ठ अधिकारियों से मिल रहे हैं। वह 8 जनवरी को भारत आए और यहां से  21 जनवरी तक चीन, अफगानिस्तान और पाकिस्तान में इंटर एजेंसी शिष्टमंडल का नेतृत्व करेंगे।





वह अफगानिस्तान में राजनीतिक समझौते में मदद करने के लिए प्रत्येक देश में वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों से मुलाकात करेंगे। यहां अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक अमेरिका एक ऐसे राजनीतिक हल के लिए अफगानिस्तान की जनता और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की इच्छा का समर्थन करता है जो 40 साल के संघर्ष को समाप्त करे और यह सुनिश्चित करे कि अफगानिस्तान कभी अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद के आधार के रूप में कार्य नहीं करेगा।

विशेष प्रतिनिधि खलीलज़ाद अफगान लोगों को अपने राष्ट्र के भविष्य की रूपरेखा बनाने में सशक्त बनाने के लिए अफगानिस्तान सरकार के अधिकारियों तथा अन्य इच्छुक पक्षों से मिलकर अफगानिस्तान में एक समावेशी शांति प्रक्रिया का समर्थन करने और उसे सुगम बनाने के लिए मुलाकात करेंगे।

अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया को सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रतिनिधि खलीलज़ाद राष्ट्रपति ग़नी, चीफ एक्जीक्यूटिव अब्दुल्लाह और अन्य अफगानिस्तान के साझेदारों के साथ सहयोग करने के लिए प्रयास जारी रखे हैं। संघर्ष की समाप्ति कैसे हो इसके लिए अमेरिका का  लक्ष्य अफगान लोगों के बीच बातचीत को प्रोत्साहित करना और पक्षों के मिलकर बातचीत की मेज पर आने के लिए बढ़ावा देना है। जिससे वे ऐसे राजनीतिक समझौते पर पहुंचें, जहां प्रत्येक अफगान नागरिक कानून के शासन के अंतर्गत समान अधिकारों और जिम्मेदारियों का लाभ उठाए। दिसंबर में अपने अंतिम दौरे में विशेष प्रतिनिधि खलीलज़ाद ने दोहराया कि सभी पार्टियों को मिलकर बैठने और परस्पर सम्मान और स्वीकृति के साथ अफगानिस्तान के राजनीतिक भविष्य के बारे में एक समझौते पर पहुंचना ही इसका एकमात्र हल है।

Comments

Most Popular

To Top