Featured

Special Report: देश का सबसे बड़ा साझा अभ्यास ‘ट्रापेक्स’ जनवरी से

थियेटर लेवल आपरेशनल रेडिनेस एक्सर्साइज (ट्रापेक्स )

नई दिल्ली। जनवरी के अंत से मार्च महीने तक नौसेना द्वारा देश में आयोजित होने वाला सबसे बड़ा संयुक्त अभ्यास ट्रापेक्स का आयोजन होगा।





थियेटर लेवल आपरेशनल रेडिनेस एक्सर्साइज (ट्रापेक्स ) के तहत तीनों सेनाओं के बीच तालमेल से  संयुक्त रणनीति को लागू करने का अभ्यास संचालित होगा। इस अभ्यास में नौसेना के करीब सभी सक्रिय पोत, पनडुब्बियां और विमानों को शामिल किया जाएगा। इसके अलावा इसमें कोस्ट गार्ड की भी अहम भागीदारी होगी। साथ में भारतीय  वायुसेना  और थलसेना के विमान और टुकडियां भी शामिल होंगी। इससे तीनों सेनाओं के बीच किस तरह बेहतर तालमेल हो सकता है यह भी देखा जाएगा। इस अभ्यास से तीनों सेनाओं के बीच साथ ल़ड़ने की क्षमता भी बेहतर होगी।

ट्रापेक्स के तहत भारतीय नौसेना तटीय सुरक्षा अभ्यास एक्सरसाइज सी विगिल भी आयोजित होगा जिसमें मुख्य भूमि और  द्वीपों की  सुरक्षा की रणनीति तैयार होगी।  नौसेना  प्रमुख एडमरिल लांबा ने कहा कि इस वृहद समुद्री थलीय अभ्यास के जरिये  तटीय सुरक्षा की हम पुख्ता होने की जांच कर सकते हैं।

अपनी समुद्री सीमाओं को शांत व स्थिर रखने के लिये इसी इरादे से क्षेत्र की नौसेनाओं के बीच आपसी समझ बेहतर करने की कोशिश की जा रही है। इसी इरादे से फ्रांस के रियूनियन द्वीप के निकट वरुण अभ्यास, अमेरिका के हवाई में रिमपैक, दक्षिण अफ्रीका के डारविन में ककाडू, जेजू (दक्षिण कोरिया) में इंटरनेशनल फ्लीट रिव्यू , त्रिंकोमाली  के निकट स्लीनेक्स,सिमोंस टाउन के नजदीक दक्षिण अफ्रीका के साथ इबसामार, पोर्ट ब्लेयर के निकट सिंगापुर के साथ सिम्बेक्स आयोजित किये गए हैं जिससे हिंद महासागर के इलाके में भारतीय नौसेना अपनी नेतृत्वकारी  भूमिका निभा रही है।

एडमरिल लांबा ने कहा कि भारत सरकार की नई पड़ोसी नीति के तहत नौसेना ने मारीशस, मालदीव औऱ सेशल्स के नजदीक के समुद्री इलाके में टोही गश्ती की है। इसके अलावा म्यांमार, थाइलैंड औऱ इंडोनेशिया के साथ समन्वित गश्ती अभ्यास किये गये हैं। संयुक्त अरब अमीरात और इंडोनेशिया के साथ पहली बार दिवपक्षीय अभ्यास किये गए हैं और बांग्लादेश के साथ पहली बार कोआडिर्नेटेड एक्सरसाइज आयोजित किए गए हैं।

Comments

Most Popular

To Top