Featured

खास रिपोर्ट: रक्षा गलियारे में दक्षिण कोरिया ने दिखाई रुचि

South-Korae

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में बन रहे रक्षा औद्योगिक गलियारे में दक्षिण कोरिया ने निवेश करने में रुचि दिखाई है। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री सोंग यंग मू ने यहां वाणिज्य संगठन फिक्की द्वारा आयोजित एक बैठक में कहा कि भारत में बन रहे दोनों रक्षा औद्योगिक गलियारों में कोरियाई रक्षा कम्पनियों द्वारा गहरी रुचि लेने से भारत और दक्षिण कोरिया के बीच रक्षा रिश्ते गहरे होंगे।





यहां दक्षिण कोरियाई दूतावास और फिक्की द्वारा आयोजित बैठक में दक्षिण कोरियाई रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत और दक्षिण कोरिया के बीच रक्षा सहयोग दक्षिण कोरिया की न्यू सदर्न पालिसी और भारत की एक्ट ईस्ट पालिसी के अनुरूप है। भारत और दक्षिण कोरिया के रक्षा उद्योग के बीच गहरे तालमेल के लिये अनुकुल व्यापारिक और कानूनी माहौल प्रदान करने का भरोसा दिया।

निर्मला सीतारमण

इसके पहले दक्षिण कोरियाई रक्षा मंत्री ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ बैठक कर आपसी रक्षा रिश्तों की समीक्षा की।

फिक्की के साथ बैठक में रक्षा उत्पादन सचिव अजय कुमार ने कहा कि भारत और दक्षिण कोरिया के बीच रक्षा साझेदारी तीन मुख्य क्षेत्रों में हो सकती है। ये हैं- इलेक्ट्रानिक्स औऱ आईटी, आर्मर , शिप और विमानों के लिये विशेष धातु के निर्माण और किसी भी शस्त्र प्रणाली के लिये उपयुक्त इंजन तकनीक। उन्होंने कहा कि दक्षिण कोरिया तकनीक के मामले में काफी उन्नत है जबकि भारत मानव संसाधन के मामले में। इसके अलावा भारत का एक विशाल बाजार है और यहां आईटी औऱ साफ्टवेयर प्रचलित है जिसका समन्वित इस्तेमाल किया जाना चाहिये।

बैठक में एल एंड टी के जे डी पाटिल ने कहा कि भारत और दक्षिण कोरिया के बीच रक्षा साझेदारी को गहरा करने के लिये शस्त्र प्रणालियों का साझा विकास और साझा उत्पादन करने की जरुरत है। फिक्की के महासचिव दिलीप चेनाय ने कहा कि भारत औऱ दक्षिण कोरिया के बीच रक्षा साझेदारी से दोनों देशों के आर्थिक रिश्ते भी गहरे होंगे।

Comments

Most Popular

To Top