Featured

स्पेशल रिपोर्टः हर्कुलस विमानों के हिस्से अब भारत में ही बनेंगे

C-130 हर्कुलस विमान
C-130 हर्कुलस विमान (फाइल)

नई  दिल्ली। लड़ाकू और परिवहन विमान तथा मिसाइलें बनाने वाली दुनिया की अग्रणी अमेरिकी रक्षा कम्पनी लाकहीड मार्टिन ने रक्षा क्षेत्र में MAKE IN INDIA (मेक इन इंडिया) के तहत एक बड़ी पहल की है। लाकहीड मार्टिन ने टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स (TSAL टीएसएएल) के साथ मिल कर एक संयुक्त उद्यम टाटा लाकहीड मार्टिन एरोस्ट्रक्चर्स लि. (TLMAL टीएलएमएएल) की स्थापना की है जिसने भारत की पहली मेटल टू मेटल बांडिंग फेसिलिटी का कारखाना हैदराबाद में खोला है। इसका उद्घाटन बुधवार को किया गया।





वैमानिकी संरचनाओं को बनाने वाले इस कारखाने से भारत के अंतरिक्ष वैमानिकी उद्योग को नई स्वदेशी क्षमता हासिल होगी। इस तकनीक के जरिए विमानों के जटिल एरोस्ट्रक्चर्स के निर्माण कार्यक्रम को बढ़ावा मिलेगा। इस कारखाने से भारत के वैमानिकी उद्योग के स्वदेशीकरण का हिस्सा बढ़ेगा और यह MAKE IN INDIA पहल को प्रत्यक्ष समर्थन देगा। इस कारखाने में बने वैमानिकी हिस्से दुनिया की कई वायुसेनाओं को सप्लाई किये जाएंगे।

लाकहीड मार्टिन ने सप्लाई किए हैं सी-130 हर्कुलस विमान

उल्लेखनीय है कि लाकहीड मार्टिन ने भारतीय वायुसेना के लिये सी-130 हर्कुलस विमानों की सप्लाई की है जिसके कई हिस्सों का स्वदेशी संयुक्त उद्यम कम्पनी द्वारा उत्पादन होने लगा है। यह कम्पनी विमानों के उन दो हजार से अधिक एमपेनेज पार्ट्स का स्वदेशी उत्पादन शुरू कर रही है जिसका अभी तक आयात होता था। हैदराबाद स्थित TLMAL हर्कुलस विमानों के लिये सालाना 24 एम्पेनेज पार्ट्स का उत्पादन कर रही थी।  लाकहीड मार्टिन के एक अधिकारी जार्ज शुल्ज ने बताया कि अमेरिका में बनने वाले हर्कुलस विमानों में हैदराबाद में ही बने एम्पेनेज पार्ट्स लगाए जाते हैं। सी-130 हर्कुलस विमान दुनिया के अधिकांश देशों के बेड़े में हैं इसलिये इनके मेनटेनेंस के लिए जरूरी हिस्से भारत से ही सप्लाई किये जाने लगे हैं।

टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स के सुकरन सिहं ने बताया कि लाकहीड मार्टिन के साथ साझेदारी का दायरा बढ़ाने से वह काफी उत्साहित हैं। लाकहीड मार्टिन के सहयोग से टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स अत्याधुनिक तकनीक के क्षेत्र में देश की निर्माण क्षमता को तेजी से आगे बढ़ा रही है। हर्कुलस विमानों का सौदा भारतीय वायुसेना के लिये करने के बाद लाकहीड मार्टिन कम्पनी द्वारा स्थापित संयुक्त कम्पनी TLMAL में पांच सौ लोगों को रोजगार मिला हुआ है।

 

Comments

Most Popular

To Top