Featured

स्पेशल रिपोर्ट: भारत के पश्चिमी मोर्चे के निकट पाक-चीन का साझा वायुसैनिक अभ्यास

पाक-चाइना संयुक्त अभ्यास

नई दिल्ली। चीनी की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की वायुसेना इन दिनों पाकिस्तान की वायुसेना के साथ एक विहंगम साझा युद्धाभ्यास भारत के पश्चिमी मोर्चे के नजदीक कर रही है। इस साझा युद्धाभ्यास के लिये चीनी पीएलए ने अपने लड़ाकू विमान, ल़ड़ाकू बमवर्षक विमान औऱ पूर्वे  चेतावनी देने वाले टोही विमान भेजे हैं।





पाकिस्तान के भोलारी वायुसैनिक अड्डे पर चल रहे  इस  युद्धाभ्यास का नाम पाकिस्तान ने शाहीन- 7 बताया है। यह अभ्यास गत 30 नवम्बर को शुरु हुआ औऱ 23 दिसम्बर तक चलेगा। पाकिस्तान की सेना के प्रवक्ता ने एक बयान में केवल एक संक्षिप्त जानकारी में इतना ही बताया कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद  वाजवा ने इस साझा वायुसैनिक अभ्यास को देखा। पाकिस्तान की सेना के बयान में  भोलारी वायुसैनिक अड्डे का नाम नहीं बताया गया है लेकिन चीन की पीएलए की वेबसाइट पर एक जानकारी में इस वायुसैनिक अड्डे की ओऱ इशारा किया गया है।

चूंकि यह अभ्यास भारत के पश्चिमी मोर्चे के काफी निकट हो रहा है इसलिये चीन औऱ पाकिस्तान की ओऱ से इसके बारे में काफी गोपनीयता बरती जा रही है। यहां सामरिक पर्यवेक्षकों का मानना है कि पश्चिमी मोर्चे पर हो रहे इस अभ्यास से चीन की वायुसेना को भारतीय मोर्चे के रणनीतिक माहौल का पता लग सकेगा और इससे पाकिस्तान को भी इस इलाके में  भविष्य के युद्ध के लिये अपनी समाघात रणनीति का विकास करने में मदद मिलेगी।

 इस युद्धाभ्यास के जरिये पाकिस्तान औऱ चीन को इस इलाके  में  समुद्री हवाई रणनीतिक  कार्रवाई करने में भी साझा रणनीति बनाने में मदद मिलेगी।

Comments

Most Popular

To Top