Featured

Special Report: गणतंत्र परेड में नौसेना दिखाएगी अपनी त्रिआयामी चौकसी की क्षमता

भारतीय नौसेना
फाइल फोटो

नई दिल्ली। इस साल गणतंत्र दिवस परेड के दौरान नौसेना 21 वीं सदी में अपनी त्रिआयामी चौकसी की क्षमता पेश करेगी। इस दौरान नौसेना अपनी झांकियों में अपने बेडे में शामिल अत्याधुनिक पोतों और विमानों के माडल पेश करेगी।





नौसेना की झांकी में मिग-29 के बहुद्देश्यीय लड़ाकू विमान, रुक्मिणी उपग्रह, पी-8-आई समुद्र टोही विमान, कोलकाता वर्ग का युद्धपोत औऱ कलवरी वर्ग की पनडुब्बी के माडल शामिल होंगे।

इन मंचों को प्रदर्शित कर नौसेना यह बताना चाहती है कि वह कैसे हिंद महासागर के इलाके में त्रिआयामी चौकसी रखती है। गौरतलब है कि नौसेना ने हाल में मिशन आधारित तैनाती की नई अवधारणा के तहत नौसेना के संसाधनों को भेजने की रणनीति को लागू किया है। इन तैनाती की वजह से नौसेना को किसी संकट के वक्त त्वरित कार्रवाई की क्षमता हासिल होगी।

गणतंत्र दिवस परेड में नौसेना की झांकियों के जरिये आम लोगों को- मिशन डिप्लायड एंड कम्बैट रेडी की अवधारणा के तहत नौसेना की समर नीति देखने को भी मिलेगी।

नौसेना के 144 नाविकों की टुकड़ी की अगुवाई लेफ्टिनेंट कमांडर पंकज कुमार यादव करेंगे। इनके साथ सब लेफ्टिनेंट शिवांश रणदेव, सब लेफ्टिनेंट रवलीन कौर औऱ सब लेफ्टिनेंट सुशांत सदाशिव शामिल होंगे।

राजपथ पर आयोजित होने वाली परेड के दौरान नौसेना की झांकी में नेवी स्कूल के बच्चों की टुकड़ी भी भाग लेगी। ये बच्चे अपनी सांस्कृतिक गतिविधियों की झांकी पेश करेंगे।

Comments

Most Popular

To Top