Featured

स्पेशल रिपोर्ट: अफगानिस्तान में भारत हार नहीं माने

अमरुल्ला सालेह

नई दिल्ली। अफगानिस्तान के तेजी से बदलते सुरक्षा और राजनीतिक माहौल के बीच अफगानिस्तान के एक  पूर्व सुरक्षा और खुफिया अधिकारी ने कहा है कि मौजूदा माहौल में भारत को अहम भूमिका निभानी है।





अफगानिस्तान के पूर्व खुफिया प्रमुख और अफगानिस्तान के सुरक्षा निदेशालय के प्रमुख अमरुल्ला सालेह ने यहां एक बैठक में कहा कि अफगानिस्तान में भारत को कई तरह की भूमिका निभानी है। मौजूदा दौर में भारत अफगानिस्तान रिश्ते वक्त की जरुरत है। उन्होंने कहा कि भारत को दिमागी तौर पर यह नहीं सोचना चाहिये कि अफगानिस्तान में जनतंत्र हार रहा है और वहां पाकिस्तान की जीत हो रही है। भारत को यह देखना होगा कि पाकिस्तान वहां जीतने नहीं पाये। भारत एक मजबूत ताकत है। अफगानिस्तान में भारत की इज्जत है। अफगानिस्तान में भारत को एक भरोसेमंद साझेदार के तौर पर जाना जाता है।

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में आगामी शनिवार को संसदीय चुनाव होने वाले हैं। इस बारे में अफगान अधिकारी ने कहा कि चुनावों को लेकर आम लोगों खासकर महिलाओं में भारी उत्साह है। संसदीय चुनावों के बाद वहां राष्ट्रपतीय चुनाव होने वाले हैं जिसके वक्त पर होने के बारे में उन्होंने शक जाहिर किया। अमुरल्ला सालेह ने कहा कि अमेरिका अफगानिसतान में तालिबानी तत्वों से बात करने की पहल कर रहा है इसलिये कोई नतीजा निकलने के पहले वह नहीं चाहेगा कि तालिबान को पूरी तरह झुकाया जाए। अमेरिका तालिबान को सत्ता में साझेदार बनाने के मसले पर बात कर रहा है लेकिन इसका एक नतीजा यह निकलेगा कि तालिबान धीरे-धीरे पूरी तरह सत्ता को अपने हाथ में ले लेगा।

उन्होंने कहा कि तालिबान का सम्पूर्ण तंत्र पाकिस्तान में है और वास्तव में तालिाबानी नेता पाकिस्तानी सेना द्वारा ही पाले पोसे हुए हैं। वास्तव में पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री इमरान खान भी पाकिस्तानी सेना के हाथ खेल रहे हैं।  इमरान पहले सेना के नुमाइंदे हैं और बाद में प्रधानंमत्री। वासत्व में इमरान खान अपने पूर्ववर्ती से काफी खराब साबित होंगे। इमरान ने केवल दो राजनीतिक परिवारों का एकाधिकार  तोड़ा है लेकिन वह सेना के आदमी ही कहे जाएंगे।

अफगानिस्तान के तेजी से बदलते माहौल के परिप्रेक्ष्य में अमरुल्ला सालेह ने कहा कि अमेरिका औऱ पश्चिमी देशों को यदि अफगानिस्तान और पाकिस्तान में चुनने की नौबत आएगी तब वे पाकिस्तान को ही चुनेंगे। अफगानिस्तान में इस्लामी स्टेट(दाएश ) की मौजूदगी के बारेमें  अमरुल्ला सालेह ने कहा कि  वहां जानूबूझकर इस्लामिक स्टेट का खौफ खडा किया जा रहा है । इस्लामी स्टेट कुछ नहीं बल्कि तालिबान ही है जिसका हौवा दिखाकर वहां तालिबान को वैध ठहराने की चाल चली जा रही है।

Comments

Most Popular

To Top