International

स्पेशल रिपोर्ट: भारत-चीन रिश्ते इतिहास में अब तक सबसे अच्छे

पीएम मोदी और शी जिन फिंग

नई दिल्ली। चीन ने कहा है कि भारत के साथ उसके रिश्ते इतिहास में अब तक के सबसे अच्छे चल रहे हैं। यहां चीन भारत  युवा संवाद को सम्बोधित करते हुए चीन के राजदूत ल्वो चाओ हुई ने कहा कि इस साल अप्रैल में चीन के वूहान शहर में हुई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिन फिंग के बीच हुई अनौपचारिक शिखर बैठक के बाद जो आम सहमति बनी उसे दोनों देश लागू कर रहे हैं।





राजदूत ने कहा कि भारत और चीन के बीच युवा संवाद दोनों देशों के बीच जनता स्तर पर सम्पर्क को गहरा करने के लिये जल्द होने वाले कार्यक्रम के तहत यह पहली बैठक थी। यह सिलसिला शुरू करने के लिये  चीन के विदेश मंत्री वांग ई के भारत दौरे में  विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ साझा तौर पर जनता स्तर पर संवाद की प्रक्रिया का उद्घाटन होगा। इस संवाद के जरिये दोनों देशों के युवा को दोनों देशों के बीच विश्वास का ग्रेट वाल खड़ा करने में मदद मिलेगी।

 राजदूत ने कहा कि दोनों देशों के बीच ठोस रिश्तों की वजह से युवा आदान प्रदान को अनोखा अवसर मिला है। युवा संवाद से दोनों देशों के युवाओं को एक दूसरे की संस्कृति औऱ सभ्यता को समझने का अनोखा मौका मिलेगा।  राजदूत ने कहा कि हर साल दोनों देश करीब दो सौ युवकों के आदान प्रदान का कार्यक्रम आयोजित करते हैं। दोनों देशों ने एक दूसरे के युवकों को स्कॉलरशिप दिये हैं और युवकों के बीच संवाद के लिये मंच स्थापित किया है। चीन यह भी चाहेगा कि और अधिक चीनी छात्र भारत में  पढ़ें औऱ अधिक से अधिक भारतीय छात्र चीन में पढ़ें।

राजदूत ने कहा कि दिवपक्षीय आदान प्रदान के अलावा बहुपक्षीय मंचों जैसे शांघाई सहयोग संगठन औऱ  ब्रिक्स दवारा भी युवा आदान प्रदान कार्यक्रम शुरु किये गए हैं जिससे भारत और चीन के युवकों को एक दूसरे को समझने का और मौके मिलेंगे।  राजदूत ने कहा कि युवा आदान-प्रदान को बढ़ाने के लिये दोनों देशों को और ठोस कदम उठाने होंगे। इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि चीन भारतीय शहरों के साथ संवाद शुरू करने पर तक रहा है जिसे नमस्ते नई दिल्ली, नमस्ते मुम्बई का नाम दिया गया है।

राजदूत ने सुझाव दिया कि फिल्म और खेल के क्षेत्र  में भी दोनों देशों को आपसी आदान-प्रदान बढ़ाना चाहिये।

Comments

Most Popular

To Top