Featured

स्पेशल रिपोर्ट: चीनी सेना ने कहा- दुनिया में शांति के लिये भारत और चीन मिलकर काम करें

PLA ऑफिसर
चीनी सेना के ऑफिसर (प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली। चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की 91 वीं सालगिरह के मौके पर यहां चीनी सेना ने कहा है कि चीन व भारत के अलावा एशिया और दुनिया में शांति, स्थिरता व समृदिध के लिये भारत औऱ चीन मिल कर काम करेंगे।





यहां इस मौके पर आयोजित एक समारोह में चीनी दूतावास में रक्षा अताशे ने कहा कि चीनी पीएलए टकराव नहीं सहयोग,  गरीबी नहीं समृद्धि चाहती है और वह सम्पूर्ण भारत-चीन सीमा पर अधिक विश्वास  का माहौल चाहती है।

चीनी पीएलए की 91वीं वर्षगांठ के अवसर पर चीनी दूतावास द्वारा आयोजित समारोह में भारतीय नौसेना के वाइस एडमिरल श्रीकांत को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया था। इस अवसर पर भारतीय सेना के अफसरों के अलावा चीन सहित कई देशों के राजदूत आदि मौजूद थे। इस मौके पर दोनों देशों के राष्ट्रगान के बाद चीनी रक्षा अताशे ने अपने सम्बोधन में कहा कि हाल के सालों में पीएलए दुबली हुई है लेकिन इसकी ताकत में भारी इजाफा हुआ है। इस दौरान इसने कई उपलब्धियां हासिल की हैं और यह विभिन्न सुरक्षा खतरों का मुकाबला करने को तैयार है।

पिछले अप्रैल माह में चीन के वूहान शहर में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिन फिंग की बैठक का जिक्र करते हुए चीनी सैन्य अधिकारी ने कहा कि दोनों नेताओं  ने माना है कि भारत औऱ चीन को हाथ मिलाकर मिल कर शांति व सुरक्षा बनाए रखने में अपना योगदान देना चाहिये। चीनी रक्षा अताशे ने कहा कि पीएलए ने अपनी सम्प्रभुता की रक्षा में असीम त्याग किये हैं और अब इसके सैनिक संयुक्त राष्ट्र शांति मिशनों में शांति रक्षक भूमिका निभा रहे हैं। पीएलए के सामने कई चुनौतियां हैं। इसके अनुरूप यह भविष्य की तैयारी में जुटी है। पीएलए की संरचना में मौलिक सुधार किये गए हैं जिससे इसकी क्षमता में भारी सुधार हुआ है।

Comments

Most Popular

To Top