Featured

स्पेशल रिपोर्ट: गणतंत्र दिवस परेड पर जैव ईंधन से उड़ेंगे विमान

ग्लोबमास्टर C- 17
फाइल फोटो

नई दिल्ली। 2019 की गणतंत्र दिवस परेड के मौके पर राजपथ पर फ्लाई पास्ट के दौरान भारतीय वायुसेना अपने परिवहन विमानों को जैव ईंधन से उड़ाकर अनोखा प्रयोग करेगी।





अन्य लड़ाकू औऱ परिवहन विमानों के साथ वायुसेना अपने उड़ान प्रदर्शन के दौरान रूसी मूल के एएन- 32 विमानों को त्रिकोण आकृत्ति में उड़ाएगी जिनके ईंधन टैंक में भरे एविएशन ईंधन में 10 प्रतिशत जैव ईंधन होगा। यह जैव ईंधन जैट्रोफा पौधे से वैज्ञानिक औऱ औद्योगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) और देहरादून के इंडियन इंस्टीट्यूट फार पेट्रोलियम रिसर्च के वैज्ञानिकों ने बनाया है।

यहां गणतंत्र दिवस परेड में वायुसेना की फ्लाई पास्ट की जानकारी देते हुए वायुसेना के अधिकारियों ने बताया कि जट्रोफा ईंधन का प्रयोग सफल रहा तो इसका इस्तेमाल बढ़ाया जाएगा जिससे देश में एवियेशन फ्युल का आयात घटेगा। फ्लाई पास्ट के दौरान उड़ाये जाने वाले तीन एएन-32 परिवहन विमानों में सबसे अगले को स्क्वाड्रन लीडर महताब सोंद उड़ाएंगे। अन्य दो विमानों को स्क्वाड्न लीडर गौतम बजाज और विंग कमांडर अरुण चंदन उड़ाएंगे।

वायुसेना की फ्लाई पास्ट में वायुसेना के 33 विमान और थलसेना की एविय़शन शाखा के चार हेलिकॉप्टर शामिल होंगे। इसमें 18 लड़ाकू विमान, 8 परिवहन विमान औऱ 11 हेलिकॉप्टर शामिल किये गए हैं। फ्लाई पास्ट दो चरणों में होगा जसमें चार एमआई- 17वीं, 5 हेलिकॉप्टर वायुसेना औऱ राष्ट्रध्वज लेकर उड़ेगे।

जमीनी परेड के समापन के बाद वायुसेना के रुद्र अडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टरों का डेयर डेविल प्रदर्शन होगा जिसमें रुद्र हेलिकॉप्टर हैरत अंगेज उड़ान पेश करेंगे। इसके बाद तीन एएन- 32 परिवहन विमानों की सतलुज टीम आएगी जिसमें जैव ईंधन का इस्तेमाल होगा।

इसके बाद भारतीय वायुसेना में शामिल एम्ब्रेयर ए ई डब्ल्यू एंड सी (AEW&C ) टोही विमान होगा। इसके अगल-बगल दो सुखोई- 30 एमकेआई विमान साथ साथ उड़ान भरेंगे। इसके बाद अमेरिका से आयातित दुनिया का सबसे बड़ा परिवहन विमान सी- 17 ग्लोबमास्टर सलामी मंच से होकर गुजरेंगे।

इसके बाद लड़ाकू विमानो का एक और जत्था पेश होगा जिसमें पांच जगुआर लड़ाकू विमान, पांच मिग- 29 विमान और इसके बाद तीन सुखोई- 30 एमकेआई विमानों का बेड़ा सलामी मंच से होकर गुजरेगा। इस दौरान सुखोई- 30 प्रसिद्ध त्रिशुल आकृत्ति पेश करेंगे। परेड के समापन पर एक सुखोई- 30 एमकेआई विमान रोंगटे खड़े करने वाली उड़ान भी होगी।

Comments

Most Popular

To Top