Featured

सोशल मीडिया की लत से प्रभावित हो रहा वायुसेना के पायलटों का प्रदर्शन

नई दिल्ली। सोशल मीडिया की लत का असर भारतीय वायुसेना के पायलटों के प्रदर्शन पर पड़ रहा है। एक वेबसाइट के मुताबिक बेंगलुरु के इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोस्पेस मेडिसिन में किए गए सर्वे में अधिकांश पायलटों ने माना कि नींद पूरी न होने की वजह से उनकी दिनचर्या पर असर पड़ रहा है। ज्यादातर पायलटों ने माना कि लंबी नींद वे सप्ताहांत में या फिर छुट्टियों के दिन में ही ले पाते हैं। यह सर्वे टेलर एंड फ्रांसिस ग्रुप ने किया।





सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक नींद पूरी न होने की वजह से एयर क्रू थकावट महसूस करते हैं इसका असर फ्लाइट की सुरक्षा पर पड़ रहा है। हालांकि सर्वे में शामिल एक तिहाई पायलटों ने दावा किया कि वे एक-दो घंटे कम नींद लेने के बाद भी पीक आवर्स में काम कर सकते हैं लेकिन कमोबेश इतने ही पायलटों ने यह स्वीकार किया कि नींद की कमी के कारण कई बार वे कॉकपिट में सुस्त रहते हैं। सर्वे रिपोर्ट में बताया गया है कि कम नींद के कारण एयरक्रू का ध्यान प्रभावित होता है, रिफलेक्सिस स्लो हो जाते हैं और रिएक्शन टाइम बढ़ जाता है जिससे एयरक्राफ्ट की हैंडलिंग कमजोर हो जाती है। ऐसे हालातों से पार पाने के लिए पायलट और अन्य क्रू मेंबर चाय और कॉफी का सहारा लेते हैं।

गौरतलब है कि शुक्रवार को वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने नींद की कमी के कारण पायलटों के प्रदर्शन पर असर की बात कही थी। उन्होंने इसकी वजह उनका (पायलटों का) सोशल मीडिया पर व्यस्त रहने को बताया था। वायुसेना प्रमुख ने इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोस्पेस मेडिसिन से एक ऐसा तंत्र स्थापित करने का कहा है जिससे टेक ऑफ से पहले पूरी नींद न लेने वाले पायलटों की पहचान की जा सके।

सोशल मीडिया की लत से प्रभावित हो रहा वायुसेना के पायलटों का प्रदर्शन

 

 

Comments

Most Popular

To Top