Featured

BSF के शहीद जवान के गांव वाले चाहते हैं पाकिस्तान से आर-पार की लड़ाई

सोनीपत। अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर शहीद सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवान नरेन्द्र सिंह को गुरुवार को उनके पैतृक गांव थानाकलां में आक्रोश भरे मन से भावभीनी विदाई दी गई। इस मौके पर मौजूद गांव के लोगों में गुस्सा दिखा। सभी का यही कहना था कि हम शहादत को नमन कर रहे हैं और सरकार से कह रहे हैं कि सैनिकों का अपमान अब बर्दाश्त से बाहर है। पाकिस्तान के साथ आर-पार का फैसला हो जाना चाहिए।





पिता की ऐसी शहादत से आहत और दुखी उनके बेटे ने पाकिस्तान की बर्बरता पर सरकार से कार्रवाई करने की बात कही। उन्होंने कहा कि हमारे लिए यह गर्व का विषय है। हर किसी को तिरंगे में अंतिम विदाई नहीं मिलती। पर हम सिर्फ गर्व करके ही नहीं रह सकते। आज हमें गर्व है कल फिर कोई शहीद होगा और फिर गर्व होगा। हम तो सीधे तौर पर सरकार से एक्शन की मांग करते हैं।

उनके आहत पुत्र ने यह भी कहा आज हमें गर्व है लेकिन दो-तीन बाद क्य होगा जब हमें कहीं से कोई सहायता नहीं मिलेगी। मैं और मेरा भाई बेरोजगार हैं।

शहीद जवान के चाचा अशोक ने बताया कि नरेन्द्र का परिवार दिल्ली में रह रहा है। करीब डेढ़ महीने पहले नरेन्द्र गांव आए थे। परिजनों ने उनसे कहा था कि नौकरी बहुत हो गई घर पर ही काम कर लो। इस पर नरेन्द्र का जवाब था कि नौकरी घर चलाने के लिए नहीं देश के लिए कर रहा हूं। देश जान से प्यारा है।

गांव के सरपंच बलराम ने शहीद जवान का स्मारक बनाने के लिए पंचायत की ओर से पांच सौ गज जमीन देने की घोषणा की है। गांव का स्टेडियम और स्कूल भी शहीद नरेन्द्र के नाम पर रखने के लिए शासन-प्रशासन को लिख दिया गया है।

 

Comments

Most Popular

To Top