Featured

घाटी में आतंकी गुटों का नया हथियार ‘हनीट्रैप’

आतंकी

श्रीनगर। घाटी में युवाओं को आतंकवाद की ओर आकर्षित करने के लिए पाकिस्तान में आतंकी संगठनों के सरगना और पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई हनीट्रैप का सहारा ले रही है। मासूम और हसीन दिखने वाली लड़कियां इस षड्यंत्र का मोहरा बन रही हैं।





सेना के अफसरों ने बताया कि खुफिया जानकारी के आधार पर चलाए गए अभियान के तहत सैयद शाजिया को बांदीपुरा से 15 दिन पहले गिरफ्तार किया गया था। वह कुछ समय से सोशल मीडिया की विभिन्न साइटों- फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्वीटर पर सक्रिय थी। उसने कई फर्जी अकाउंट बना रखे थे, जिनसे वह कई युवाओं के संपर्क में थी। घाटी में कई युवाओं ने फालो कर रखा था।

सूत्रों के मुताबिक जब कोई युवक उसके जाल में फंस जाता था तो वह उससे कहती थी कि अगर मिलना है तो एक काम करो। वह उस युवक से कभी कहती कि हथियारों को सुरक्षित जगह पहुंचाना है तो कभी आतंकियों के लिए गाइड बनने के लिए कहती। शाजिया ने पुलिस संगठन में भी अपना जाल फैला रखा था। हंदवाड़ा का विशेष पुलिस अधिकारी (SPO) भी सक्रिय था जो उसे पुलिस की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी भी देता था। वह भी पुलिस हिरासत में है। शाजिया के पकड़े जाने से पहले उसने ही शाजिया को सचेत किया था कि पुलिस लगातार निगरानी कर रही है।

सेना के अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियां शाजिया द्वारा पिछले 07 महीने में इस्तेमाल किए गए ‘इंटरनेट प्रोटोकोल’ (IP) नजर बनाए हुए थी।

खास बात यह है कि पूछताछ में शाजिया ने जांचकर्ताओं को आतंकवादी संगठनों में मौजूद अन्य महिलाओं के बारे में बताया, जिन्हें युवकों को आतंकवाद की ओर आकर्षित करने का काम किया है। शाजिया सरहद पार स्थित कई नामी आतंकी कमांडरों के साथ भी लगातार संपर्क में थी।

Comments

Most Popular

To Top