Featured

वुहान शिखर बैठक से भारत के साथ खुला नया अध्याय: चीन

चीन के राष्ट्रपति के साथ पीएम मोदी

नई दिल्ली।  चीन ने कहा है कि  वुहान शिखर बैठक ने भारत और चीन के रिश्तों में एक नया अध्याय खोला है। पिछले साल अप्रैल में चीन के शहर वुहान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिन फिंग की कामयाब शिखर बैठक को भारत और चीन वुहान सहमति को यथार्थ में बदलने के लिए दोनों पक्ष कड़ी मेहनत कर रहे हैं। यहां चीनी गणराज्य की स्थापना की 69वीं सालगिरह पर आयोजित एक समारोह में चीन के राजदूत लुओ चाओ हुई ने कहा कि इस दुनिया को बेहतर बनाने के लिए फेनिक्स और मोर पक्षियों को साथ नृत्य करना चाहिये। इस अवसर पर भारत के विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद थे। यहां राजनयिक पर्य वेक्षकों का मानना है कि पिछले साल वुहान में प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति शी की शिखर बैठक से रिश्तों में गर्मी।पैदा हुई है जिससे दोनों देशों की 4000 किलोमीटर लंबी अनिर्धारित सीमा पर तनाव कम हुए हैं और वास्तविक।नियंत्रण रेखा पर घुसपैठ और अतिक्रमण की वारदातें कुछ कम।हुई हैं।





चीनी राजदूत ने अमृतसर में चीनी एक्यूपंक्चर विधि पर चलाये जा रहे कोटनिस अस्पताल का जिक्र करते हुएकहा कि  ऐसी ही बातें रिश्तों को ठोस आधार देती हैं जिससे वुहान जैसी अनोपचारिक शिखर बैठकों का मार्ग प्रशस्त करती है।

राजदूत ने कहा कि  चीन ने 40 सालों के सुधार के दौर में चीन की अर्थव्यवस्था ने छलांग लगाई है। इस दौरान चीन ने 70 करोड़ लोगों को गरीबी से  निकाला है। इस दौरान चीन की अर्थव्यवस्था ने 13 ट्रिलियन डॉलर को पर कर् लिया है।

Comments

Most Popular

To Top