Featured

बागपत जेल में बंद मुन्ना बजरंगी की हत्या, तड़ातड़ मारीं 10 गोलियां

मुन्ना बजरंगी

बागपत। उत्तर प्रदेश के कुख्यात अपराधी मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई। जेल में मुन्ना बजरंगी को 10 गोलियां मारी गईं जिससे वहीं उसकी मौत हो गई। उस पर लूट औऱ हत्या के कई आरोप थे। बताया जा रहा है कि मुन्ना बजरंगी की हत्या का आरोप जेल में ही बंद सुनील राठी पर लग रहा है।





मुन्ना बजरंगी की हत्या उस समय हुई जब उसे पेशी के लिए बागपत की स्थानीय कोर्ट में ले जाने की तैयारी की जा रही थी। इसी पेशी के लिए एक दिन पहले ही उसे झांसी की जेल से यहां लाया गया था। मीडिया खबरों के मुताबिक इस मामले में जेल के जेलर और डिप्टी जेलर समेत कई कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दे दिए हैं। इस वारदात के बारे में मुख्यमंत्री ने राज्य के पुलिस महानिदेशक और प्रमुख सचिव से भी बात की है। उन्होंने कहा कि जेल के अंदर इस तरह की वारदात बेहद गंभीर है और जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

मुन्ना बजरंगी का वास्तविक नाम प्रेम प्रकाश सिंह था। कुछ ही दिन पहले प्रेस कांफ्रेंस कर उसकी पत्नी सीमा सिंह ने अपने पति की हत्या की आशंका जताई थी। पिछले दिनों गैंगवार में बजरंगी के साले की हत्या की खबर भी आई थी। मीडिया खबरों के मुताबिक मुन्ना बजरंगी पर हत्या, लूट और रंगदारी वसूलने के कई आरोप थे।

अस्सी के दशक में लूट के लिए एक व्यापारी की हत्या का आरोप मुन्ना बजरंगी पर लगा। इसके बाद हत्या और लूट के कई मामलों में उसका नाम सामने आया। भाजपा नेता रामचंद्र सिंह और भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या का आरोप भी उस पर लगा। बताया जाता है कि दिल्ली पुलिस के साथ एक एनकाउंटर में उसे 11 गोलियां लगी थीं।

भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या में नाम सामने के बाद मुन्ना बजरंगी पर 11 लाख का इनाम घोषित हुआ था। पुलिस से बचने के लिए वह मुंबई भाग गया। वर्ष 2009 में मुंबई में उसे गिरफ्तार किया गया और तब से उसे अलग-अलग जेलों में रखा जा रहा था।

Comments

Most Popular

To Top