Featured

मध्य प्रदेश: जल्द ही पुलिस मुख्यालय छोटे बच्चों के खेलने-कूदने की सुविधाओं से होगा लैस

एमपी पुलिस मुख्यालय
मध्य प्रदेश पुलिस मुख्यालय (फाइल)

भोपाल। कभी-कभी सरकार द्वारा कर्मचारी हित में उठाए गए कदम काफी महत्वपूर्ण और सराहनीय होते हैं। पुलिस मुख्यालय में आने वाले कर्मचारी अपने छोटे बच्चों को दफ्तर में भी ला सकेंगे। इन बच्चों के लिए झूलाघर बनाया जा रहा है, जिसमें छोटे बच्चों के खेलने-कूदने की सुविधाओं के साथ देखरेख के लिए प्रशिक्षित कर्मचारी होंगे। हालांकि इसके लिए अभी कर्मचारियों से सहमति मांगी जा रही है और पर्याप्त संख्या हो जाने पर जल्द ही यह आरंभ हो जाएगा।





एक वेबसाइट में छपी खबरों के अनुसार पुलिस हेडक्वार्टर में ऐसे कर्मचारियों की लंबी कतारें हैं, जिनके बच्चे अभी काफी छोटे हैं। कर्मचारी उन्हें या तो अपने परिजनों के भरोसे छोड़कर आते हैं या फिर किसी आया के हवाले करके काम करने आते हैं। कल्याण शाखा के ADG एसएम अफजल के अनुसार छोटी संतान होने की वजह से उनके माता-पिता पूरी क्षमता के साथ काम नहीं कर पाते। जब उनके बच्चे पुलिस हेडक्वार्टर परिसर में ही झूलाघर में रहेंगे तो वे लंच के समय में कुछ वक्त उनके साथ बिता सकेंगे।

झूलाघर को लेकर मंगलवार को कल्याण शाखा के अधिकारियों के साथ इच्छुक कर्मचारियों के साथ बैठक बुलाई थी, जिसमें 35 कर्मचारी शामिल हुए। कम से कम 50 कर्मचारियों की सहमति जरूरी बताई जा रही है। इसमें कम संख्या होने पर झूलाघर का संचालन मुश्किल में पड़ सकता है।

पुलिस मुख्यालय की पुरानी बिल्डिंग स्थित कैंटीन के हॉल में झूलाघर बनाने का प्रस्ताव है। एडीजी अफजल ने बताया कि जिस संस्था को झूलाघऱ संचालन की जिम्मेदारी देने की बातचीत तल रही है, उसे एक लाख रुपये प्रति माह देना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि झूलाघऱ का एक बार का स्थापना खर्च कल्याण शाखा उठाएगी, जिसमें बच्चों के खिलौने और अन्य संसाधन की खरीदारी आदि होगा।

Comments

Most Popular

To Top