Featured

बढ़ते कदमः ISRO ने बनाई स्वदेशी परमाणु घड़ी

स्वदेशी परमाणु घड़ी

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) की यह बड़ी कामयाबी है। उसने स्वदेशी परमाणु घड़ी का विकास किया है। इस घड़ी का इस्तेमाल नैविगेशन सैटेलाइट्स में किया जा सकता है। इससे सटीक लोकेशन डेटा मिल सकेगा। एक अखबार में छपी खबर में अमदाबाद के स्पेस ऐप्लिकेशन सेंटर (SAC) के निदेशक तपन मिश्र के हवाले से बताया गया है कि SAC ने स्वदेशी Atomic Clock विकसित की है और अभी इस घड़ी को परीक्षण के लिए रखा गया है। सारे परीक्षण पास करने के बाद यह घड़ी नैविगेशन सैटेलाइट्स में प्रायोगिक तौर पर इस्तेमाल की जा सकती है ताकि यह पता चल पाये कि अंतरिक्ष में यह कब तक टिक सकती है और कितना सटीक डेटा मुहैया करवा सकती है।





स्पेस ऐप्लिकेशन सेंटर के निदेशक तपन मिश्र के मुताबिक गिने-चुने अंतरिक्ष संगठनों के पास ही यह जटिल तकनीक है। और अब ISRO भी उनमें शामिल हो गया है। SAC निदेशन तपन मिश्र कहते हैं, ‘यह स्वदेशी घड़ी हमारे designs और specifications के आधार पर बनाई गई है।आयात की जाने वाली घड़ियों जैसा ही काम यह घड़ी भी करती है। हमें उम्मीद है कि यह घड़ी पांच वर्ष से ज्यादा काम करेगी।’

 

Comments

Most Popular

To Top