Featured

मेक इन इंडियाः छह महीने के भीतर 75 फीसदी स्वदेशी हो जाएगी ब्रह्मोस

ब्रह्मोस-मिसाइल
ब्रह्मोस मिसाइल (सौजन्य- गूगल)

पुणे। मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने में लगी ब्रह्मोस एयरोस्पेस ने घोषणा की है कि उसकी विश्व की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल छह महीने के भीतर 75 फीसदी स्वदेशी हो जाएगी। ब्रह्मोस में फिलहाल 65 फीसदी स्थानीय पूर्जों का इस्तेमाल हो रहा है।





मीडिया खबरों के मुताबिक ब्रह्मोस एयरोस्पेस के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुधीर मिश्र ने रविवार को कहा कि अभी ब्रह्मोस में 65 फीसदी स्वदेशी कल-पूर्जों का इस्तेमाल हो रहा है। शुरूआत हमने 10-12 फीसदी स्वदेशी उपकरणों से की थी और आज 65 फीसदी तक पहुंच गए हैं। अगले छह महीनों में हम 75 फीसदी के स्तर तक पहुंच जाएंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले मार्च में हमने स्वदेशी सीकर का उड़ान परीक्षण किया था और दो महीने में स्वदेशी बूस्टर का परीक्षण किया जाएगा। इससे ब्रह्मोस 85 फीसदी स्वदेशी हो जाएगा।

ब्रह्मोस एयरोस्पेस के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुधीर मिश्र एलएंडटी डिफेंस द्वारा निर्मित क्वैड लांचर को समर्पित करने के समारोह को संबोधित कर रहे थे। क्वैड लांचर के बारे में उन्होंने बताया कि इस स्मार्ट लांचर से एक साथ आठ मिसाइल लांच किये जा सकेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि नौसेना से अभी ठेका नहीं मिला है पर हमने काम आरंभ कर दिया है।

 

Comments

Most Popular

To Top