Featured

वीडियोः दिवाली पर ‘गब्बर सिंह’ के पिता का यह भाषण सुन नम हो जाती हैं आंखें, आप भी सुनें…





अपने गब्बर सिंह यानी अमजद खान के पिता जयंत अपने दौर के दिग्गज अभिनेता थे। उनकी विशाल कद-काठी और ओजस्वी आवाज उन्हें उस दौर के अन्य अभिनेताओं से विशिष्ट बनाती थी। परदे पर उनकी उपस्थिति उस दौर के तमाम सितारों की चमक फीकी कर देती थी। फिल्म ‘संघर्ष’ में दिलीप कुमार तक उनके सामने उन्नीस साबित हुए थे। इन्हीं जयंत ने फिल्म ‘हकीकत ‘ में सेना के ब्रिगेडियर की भूमिका निभाई थी। भारत-चीन युद्ध की पृष्ठभूमि पर बनी इस फिल्म में जयंत दिवाली के दिन रणभूमि में हताश और थक चुके जवानों को संबोधित करते हैं। जयंत का यह भाषण जवानों पर जादुई असर करता है। यह फिल्म वर्ष 1964 में प्रदर्शित हुई थी। उस समय हमारे पास लड़ने के लिए हथियार नहीं थे, राशन नहीं था, कपड़े नहीं थे लेकिन इसके बावजूद सीमा पर हमारे जवानों ने जो अदम्य साहस दिखाया उसकी कोई दूसरी मिसाल नहीं है। इतने बरसों बाद आज हमारे पास बहुत कुछ हैं लेकिन यह भाषण आज भी वैसा ही असर करता है जैसा उसने उस वक्त किया था। यह भाषण बताता है कि उस पीढ़ी के बलिदान और त्याग से ही हम आज जगमगाती दिवाली मनाते हैं। दिवाली पर आप भी देश के जांबाज सैनिकों को दिया गया यह भाषण सुनिए, लोगों को सुनाइये और सेना से जुड़िए, देश से जुड़िए-

Comments

Most Popular

To Top