Featured

कुलभूषण की मां ने इस तरह पकिस्तान के नापाक मंसूबों पर फेरा पानी

कुलभूषण की मां ने की मुलाकात

नई दिल्ली। कुलभूषण जाधव से मुलकात के लिए पहुंची जाधव की मां अवंति जाधव ने बेटे से मुलाकात के दौरान साहस का परिचय दिया और पाकिस्तान के चालकी भरे मंसूबों पर पानी फेर दिया। गहन निगरानी और शीशे की दीवार के बीच हुई इस मुलकात के दौरान जब कुलभूषण जाधव अपने ऊपर लगे आरोपों को कुबूलने ने की बात कर रहे थे तो उनकी मां ने उन्हें बीच में ही टोकते हुए कहा कि तुम झूठ क्यों बोल रहे हो।





मां ने कुलभूषण से कहा, ‘पाकिस्तान की स्क्रिप्ट न दोहराएं’

जाधव की मां अवंति के मुताबिक जाधव ने बहुत विचित्र तरीके से उनका अभिवादन किया था। परिवार को 22 महीने बाद देखने के बाद उनकी जो प्रतिक्रिया होनी चाहिए थी, वैसी बिलकुल नहीं थी। यह व्यवहार उनकी मां को हजम नहीं हो रहा था। 70 वर्षीय अवंति पाकिस्तानी अधिकारियों की और से डरा देने वाली निगरानी के बीच अपने बेटे को यह कहने में सफल रहीं कि वह पाकिस्तानी सेना और आईएसआई द्वारा दी गई स्क्रिप्ट को न दोहराएं। अवंति के साहस ने संभवतः उन पाकिस्तानी अधिकारियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया है जो परिवार के समक्ष जाधव के ‘कबूलनामे’  की रिकॉर्डिंग को भारत के खिलाफ पेश करने की योजना बना रहे थे। जाधव की मां के मुताबिक जब जाधव पाकिस्तान की तरफ से दाखिल की गई चार्जशीट का उल्लेख कर रहे थे, तभी उन्होंने अपने बेटे को बीच में टोकते हुए कहा, ‘तुम क्यों ऐसा कह रहे हो? तुम तो ईरान में बिजनेस कर रहे थे, जहां से तुम्हें अगवा किया गया। तुम्हें सच बताना चाहिए। तुम झूठ क्यों बोल रहे हो?’

यह भी पढ़ें : कुलभूषण की मां और पत्नी को विधवा की तरह मिलवाने पर सुषमा ने पाक को लताड़ा

 

बातचीत की रिकॉर्डिंग के साथ पाकिस्तान कर सकता है छेड़छाड़

आपको बता दें कि पाकिस्तान ने शुरुआत में सिर्फ जाधव की पत्नी चेतनाकुल को वीजा दिया था। लेकिन भारत के दबाव के कारण उनकी मां को भी वीजा दिया गया। इस मुलाकात के बाद  भारत को इस बात का डर है कि पाकिस्तान जाधव और उनके परिवार की बातचीत की रिकॉर्डिंग में छेड़छाड़ कर सकता है। लेकिन जाधव की मां ने इतनी निगरानी के बावजूद अपने बेटे को झूठ न बोलने की नसीहत दी। भारत इस बात से राहत महसूस कर रहा है कि अवंति के साहस के कारण पाकिस्तान की योजना पर पानी फिर गया है।

मुलाकात के बाद अवंति और चेतनाकुल को विदेश मंत्रालय के बाहर काफी इंतज़ार करवाया गया। उनके साथ भारत के डिप्टी हाई कमिश्नर जे.पी.सिंह भी उनके साथ मौजूद थे। जिन्हें पाकिस्तानी पत्रकारों की बदतमीजी का भी सामना करना पड़ा। यह दो देशों के बीच मुलाकात की रूपरेखा को लेकर बनी सहमति का भी उल्लंघन था।

Comments

Most Popular

To Top