Featured

नए साल में इस खास मिशन को अंजाम देगा ISRO, एक साथ अन्तरिक्ष भेजेगा 31 सैटेलाईट

नई दिल्ली।  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) वर्ष 2018 की शुरुआत एक महत्वाकांक्षी  योजना से करने जा रहा है। इसरो ने शुक्रवार को घोषणा की है कि 10 जनवरी, 2018 को 31 कृत्रिम उपग्रहों को  एकसाथ स्पेस  में भेजेगा। इन सभी सैटेलाईट को पोलर सैटेलाइट लांच व्हीकल (पीएसएलवी) से लांच किया जाएगा।





इसरो के वरिष्ठ  अधिकारियों के मुताबिक इन 31 उपग्रहों में भारत का अर्थ आब्जर्वेशन सैटेलाइट कार्टोसैट-2 भी शामिल किया  है। हालांकि इसकी लॉन्चिंग की तारीख में बदलाव भी किया जा सकता है। इसरो के एक वरिष्ठ अधिकारी ने  कहा, ‘ इस मिशन के लांच की तारीख दस जनवरी तय की गई है। इसमें मुख्य पेलोड भारत का सैटेलाइट कार्टोसैट-2 है। पीएसएलवी-सी40 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से लांच किया जाएगा।

28 विदेशी नैनो सैटेलाइट

इस मिशन में 28 विदेशी नैनो सैटेलाइट के साथ भारत की कार्टोसैट-2, एक नैनो सैटेलाइट और एक माइक्रो सैटेलाइट को लांच किया जाएगा।’ मिशन को अंतिम रूप देने के लिए मिशन रेडीनेस रिव्यू कमेटी व लांच आथोराइजेशन बोर्ड जल्द बैठक कर सकते हैं। आंध्र प्रदेश के श्री हरिकोटा से अंतरिक्ष यान पीएसएलवी-सी40 को रवाना किया जाएगा।

असफल हुआ था पिछला मिशन

आपको बता दें कि इस साल 31 अगस्त को PSLV से नेविगेशन सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1 एच लांच की गई थी, लेकिन हीट शील्ड न खुल पाने के कारण सैटेलाइट रॉकेट के चौथे चरण समेत अंतरिक्ष में पहुंच गया।लेकिन वह किसी काम का नहीं रहा। इसके बाद ISRO ने पिछले चार माह  में किसी सैटेलाईट को लांच नहीं किया। अब  पीएसएलवी में कुछ बदलावों के साथ इस मिशन को फिर से अंजाम दिया जा रहा है और इसके लिए नए साल के मौके को  उपयुक्त माना जा रहा है। इसमें बदलाव के तौर पर पे लोड फेयरिंग यानी हीट शील्ड तकनीक में कुछ बदलाव किया गया है।

Comments

Most Popular

To Top