Featured

कैदियों की दशा जानने के लिये भारत-पाक की साझा समिति

कैदियों की दशा जानने के लिये भारत-पाक की साझा समिति

नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान की जेलों में एक-दूसरे के कैदियों की दशा पता करने और उनके साथ मानवीय व्यवहार सुनिश्चित करने के लिये प्रस्तावित न्यायिक समिति में भारत ने अपने जजों के नाम तय कर पाकिस्तान को बता दिये हैं।





यहां विदेश मंत्रालय़ के प्रवक्ता ने बताया कि अक्टूबर, 2017 में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त को सुझाव दिया था कि एक-दूसरे की जेलों में मछुवारों औऱ कैदियों की हालत देखने के लिये साझा न्यायिक समिति को फिर बहाल किया जाए। इस तरह की पहली समिति 2007 में गठित हुई थी। इसमें उच्च अदालतों के सीनियर रिटायर्ड जजों को नामजद किया जाता है। इस समिति की अब तक सात बैठकें हो चुकी हैं और इसकी पिछली बैठक अक्टूबर, 2013 में नई दिल्ली में हुई थी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने नवगठित समिति के जजों के नाम पाकिस्तान को बता दिये है। ये जज हैं- दिल्ली हाई कोर्ट के जसपाल सिंह और इंदरमीत कौर कोचर, गुजरात के हर्षवर्धन अनतानी, राजस्थान के देवनारायण थानवी। प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान से कहा गया है कि जजों की भारतीय समिति के पाकिस्तान दौरे की तिथियां सुझाए।

Comments

Most Popular

To Top